ताज़ा खबर
 

‘हमारे सभी कॉन्टैक्ट लिस्ट की हो रही जासूसी’, पूर्व आरएसएस नेता ने आरोग्य सेतु ऐप पर केंद्र सरकार को भेजा नोटिस

लगभग 90 मिलियन लोगों द्वारा डाउनलोड किया गया Aarogya Setu ऐप, सरकार के साथ-साथ निजी क्षेत्र के कर्मचारियों और कंटेनमेंट जोन वाले क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए अनिवार्य बना दिया गया है।

KN Govindacharya, BJP, RSS,राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व विचारक केएन गोविंदाचार्य ने केंद्र सरकार को नोटिस भेजा है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व विचारक केएन गोविंदाचार्य ने केंद्र सरकार को नोटिस भेजा है। उन्होंने आरोग्य सेतु ऐप को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्होंने  आरोप लगाया है कि इस ऐप के जरिए लोगों के कॉन्टैक्ट लिस्ट की जासूसी हो रही है।

लगभग 90 मिलियन लोगों द्वारा डाउनलोड किया गया Aarogya Setu ऐप, सरकार के साथ-साथ निजी क्षेत्र के कर्मचारियों और कंटेनमेंट जोन वाले  क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए अनिवार्य बना दिया गया है। गोविंदाचार्य ने अपने वकील विराग गुप्ता के माध्यम से, राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) की प्रमुख नीता वर्मा को नोटिस भेजा, जो सरकार की आईटी सेल का नेतृत्व करती हैं।

नोटिस में सरकार पर आरोप लगाया गया है कि भारतीयों के डेटा को विदेशी प्रौद्योगिकी दिग्गजों द्वारा एक्सेस किया जा सकता है। इसके अलावा जैसा कि यह ब्लूटूथ और स्थान डेटा का उपयोग करता है ऐसे में टेलीकॉम कंपनिया भी  यूजर्स की जरूरी सूचनाओं में सेंध लगा सकती है। साथ ही सेल फोन निर्माताओं द्वारा  भी सूचना का एक्सेस किए जाने का खतरा है।

नोटिस में कहा गया है कि  जब सरकार इस ऐप को सभी को डाउनलोड करने के लिए अनिवार्य कर रही है तो फिर अगर इस ऐप के जरिए निजता के संबंध में कोई भी चूक होती है तो सरकार को इसके लिए जवाबदेह होना चाहिए।

Coronavirus/COVID-19 और Lockdown से जुड़ी अन्य खबरें जानने के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें: शराब पर टैक्स राज्यों के लिए क्यों है अहम? जानें, क्या है इसका अर्थशास्त्र और यूपी से तमिलनाडु तक किसे कितनी कमाईशराब से रोज 500 करोड़ की कमाई, केजरीवाल सरकार ने 70 फीसदी ‘स्पेशल कोरोना फीस’ लगाईलॉकडाउन के बाद मेट्रो और बसों में सफर पर तैयार हुईं गाइडलाइंस, जानें- किन नियमों का करना होगा पालनभारत में कोरोना मरीजों की संख्या 40 हजार के पार, वायरस से बचना है तो इन 5 बातों को बांध लीजिये गांठ…कोरोना से जंग में आयुर्वेद का सहारा, आयुर्वेदिक दवा के ट्रायल को मिली मंजूरी

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 शराब की दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग पर SC में दायर की थी याचिका, जज ने ठोक दिया 10,000 रुपये का जु्र्माना
2 Maharashtra MLC Election 2020: बीजेपी ने महाराष्ट्र एमएलसी चुनावों के लिए की उम्मीदवारों की घोषणा, चार नामों का ऐलान
3 ‘अगर आंबेडकर ने इस्लाम क़बूला होता तो क्या बीजेपी को स्वीकार्य होते?’ वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष ने पूछा तो हो गए ट्रोल
ये पढ़ा क्या?
X