ताज़ा खबर
 

Kartarpur Corridor: सिद्धू के साथ सेल्फी खिंचवाने की मची होड़, लोगों ने बताया ‘हीरो’, पाक विदेश मंत्री ने कहा ‘मैन ऑफ द मैच’

करतारपुर पहुंचकर सिद्धू ने अपने संबोधन में इमरान खान को विशेष धन्यवाद दिया। साथ ही उन्होंने पीएम मोदी की भी सराहना की। उन्होंने कहा, "मेरे राजनीतिक मतभेद हो सकते हैं, लेकिन मैं मोदी को मुन्ना भाई MBBS की झप्पी दूंगा।"

नवजोत सिंह सिद्धू का पाकिस्तान में काफी गर्मजोशी से स्वागत हुआ। (फोटो सोर्स:REUTERS)

क्रिकेटर से राजनेता बने नवजोत सिंह सिद्धू की लोकप्रियता पाकिस्तान में शनिवार काफी देखी गई। सीमा पार सिद्धू का जलवा देखने लायक था। उनके साथ लोग सेल्फी के लिए उमड़ पड़े और उन्हें करतारपुर कॉरिडोर का “असली हीरो” करार दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हरी झंडी दिखाने के बाद जत्था समेत करतारपुर पहुंचने से पहले सीमा पर पाकिस्तानी रेंजर्स और अन्य कर्मचारियों ने रॉयल ब्लू कलर का सूट और पीले रंग की पगड़ी पहने सिद्धू का गर्मजोशी से स्वागत किया।

करतारपुर में स्थित गुरुद्वारे के परिसर में एक सभा को संबोधित करते हुए सिद्धू ने करतारपुर कॉरिडोर खोलने के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का शुक्रिया अदा किया और अगले कदम के रूप में सीमाओं को खोलने की दिशा में काम करने को कहा। सिद्धू ने कहा कि वह विशेष रूप से प्रधानमंत्री इमरान खान को धन्यवाद देने के लिए पाकिस्तान आए हुए हैं।

उन्होंने कहा, “मैं अपने यार (इमान खान) का शुक्रिया अदा करने आया हूं, जिन्होंने महज एक महीने के भीतर मेरे ‘मेरे बाबे दा घर’ (मेरे गुरु का घर) को स्वर्ग में तब्दील कर दिया” इस दौरान सिद्धू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और इमरान खान को बधाई देते हुए कहा, “दोनों तरफ के पंजाबियों ने विभाजन का दर्द झेला है। मोदी और खान ने उस पर बाम (मरहम) लगाने का काम किया है।”

गौरतलब है कि नवजोत सिंह सिद्धू उस वक्त देश की जनता के निशाने पर आ गए थे, जब उन्होंने पाक आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा के साथ गले मिले थे। इस दौरान उन्हें उनकी पार्टी के वरिष्ठ नेता और पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह तक की आलोचना झेलनी पड़ी थी। हालांकि, सिद्धू ने काफी खींचतान के बाद इसी साल की शुरुआत में पंजाब के मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था।

पाकिस्तानी आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा से गले मिलने के प्रसंग का जिक्र करते हुए सिद्धू ने कहा कि मैं अपना सीना ठोककर कहूंगा कि मेरी झप्पी की बदौलत ही गुरु के घर का दरवाजा खुल पाया। सिद्धू ने इसके साथ ही कहा कि भाई अब सीमाएं भी खोल दो। सिद्धू ने कहा, “हम घृणा क्यों फैलाएं और सीमा पर माताओं के बच्चे मारे जाएं?” उन्होंने कहा कि इमरान खान ने सिखों का दिल जीत लिया है। साथ ही सिद्धू ने पीएम मोदी की सराहना भी की और कहा, “मेरे राजनीतिक मतभेद हो सकते हैं, लेकिन मैं मोदी को मुन्ना भाई MBBS की झप्पी दूंगा।”

इससे पहले, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने जत्थे की अगवानी की और शटल बस में चढ़ गए। इमरान खान और सिद्धू इस दौरान दरबार साहिब के बाहर श्रद्धालुओं को हाथ हिलाकर अभिवादन करते नजर आए। गुरुद्वारे के भीतर युवाओं को सिद्धू के साथ सेल्फी लेते देखा गया। कई सारे कांग्रेस और AAP के विधायक भी सिद्धू का अभिवादन करते नजर आए।

गुरुद्वारा परिसर में हुए समारोह में सिद्धू, गुरदासपुर के सांसद सनी देओल और अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह मौजूद थे। इस दौरान समारोह में बोलते हुए पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सिद्धू को करतारपुर गलियारे का “मैन ऑफ द मैच” बताया और असली हीरो करार दिया। गौरतलब है कि करतारपुर से लौटने के बाद भारत की तरफ से लोगों ने सिद्धू के लिए नारे लगाए और उनकी प्रशंसा की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Ayodhya Verdict का आधार बनी ASI रिपोर्ट को किताब की शक्ल में लाएगी मोदी सरकार
2 Ayodhya verdict के खिलाफ JNU के 100 स्टूडेंट्स ने किया प्रदर्शन, ABVP ने किया जवाबी प्रोटेस्ट
3 Ayodhya verdict: किसी को ‘हनुमान’ पर था भरोसा तो कोई बजाने लगा शंख! जानें कैसा था फैसले के वक्त सुप्रीम कोर्ट का नजारा
ये पढ़ा क्या?
X