ताज़ा खबर
 

फेफड़ों में संक्रमण के बाद पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत हुई गंभीर, वेटिंलेटर सपोर्ट जारी

फेफड़े में इंफेक्शन होने की वजह से पूर्व राष्ट्रपति की तबीयत बिगड़ती जा रही है। अस्पताल की ओर से बताया गया है कि फेफड़ों में संक्रमण की वजह से सेप्टिक शॉक की स्थिति पैदा हो गई है।

Pranab Mukherjee, Pranab Mukherjee healthPranab Mukherjee health: प्रणब मुखर्जी के फेफड़े में इंफेक्शन होने की वजह से उनकी तबीयत बिगड़ती जा रही है। (File Photo)

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में भर्ती हैं। फेफड़े में इंफेक्शन होने की वजह से उनकी तबीयत बिगड़ती जा रही है। अस्पताल की ओर से बताया गया है कि फेफड़ों में संक्रमण की वजह से सेप्टिक शॉक की स्थिति पैदा हो गई है। पूर्व राष्ट्रपति की इस महीने की शुरुआत में ब्रेन सर्जरी हुई थी, जिसके बाद से वह कोमा में हैं और उन्हें वेटिंलेटर सपोर्ट पर रखा गया है।

आर्मी हॉस्पिटल की ओर से आज जारी किए गए बयान में बताया गया है कि प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य में गिरावट देखी जा रही है। फेफड़ों में इंफेक्शन की वजह से वे सेप्टिक शॉक में हैं। डॉक्टरों की एक स्पेशल टीम उनके इलाज में जुटी है। बुलेटिन में डॉक्टरों ने बताया कि 84 वर्षीय मुखर्जी की किडनी की कार्य प्रणाली भी थोड़ी अव्यवस्थित हो गई है। वह अभी भी कोमा में हैं और उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया है।

सेप्टिक शॉक एक ऐसी गंभीर स्थिति है, जिसमें रक्तचाप काम करना बंद कर देता है और शरीर के अंग पर्याप्त ऑक्सीजन प्राप्त करने में विफल हो जाते हैं।

इससे पहले रविवार को अस्पताल ने उनका मेडिकल बुलेटिन जारी किया था। तब डॉक्टरों ने उनके फेफड़ों के संक्रमण के बारे में बताया था। बुलेटिन में कहा गया था कि उनका इलाज चल रहा है और वह हेमोडायनामिक रूप से स्थिर हैं।

बता दें मुखर्जी भारत के 13वें राष्ट्रपति के रूप में  2012 से 2017 तक पद पर रहे है। पूर्व राष्ट्रपति को 10 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसी दिन उनकी ब्रेन सर्जरी हुई थी। जिसके बाद वे कोमा में चले गए थे। अस्पताल में भर्ती के दौरान की गई जांच में उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की भी पुष्टि हुई थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राहुल गांधी बोले- भारतीय अर्थव्यवस्था 40 वर्षों में पहली बार भारी मंदी में, ‘असत्याग्रही’ इसका दोष ईश्वर को दे रहे हैं
2 बीते 24 घंटे में कोरोना के 69,921 नए मामले, 819 की मौत, कुल आंकड़ा 37 लाख के करीब पहुंचा
3 दिल्ली-एनसीआर में 1 से 4 सिंतबर के बीच बरस सकते हैं बादल, जानिए अपने क्षेत्र के मौसम का हाल
यह पढ़ा क्या?
X