ताज़ा खबर
 

BJP सरकार में मुद्दे उठाने के लिए लेनी पड़ी कांग्रेस नेताओं की मदद- सुमित्रा महाजन ने किया किरकिरी कराने वाला खुलासा

उन्होंने इसके पीछे दलील दी कि भाजपा के अनुशासन से बंधी होने के कारण वह अपनी ही पार्टी की तत्कालीन सरकार की नीतियों के खिलाफ सार्वजनिक रूप से कुछ नहीं कह सकती थीं।

Author भोपाल | Published on: December 3, 2019 8:44 AM
पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन (फाइल फोटो)

पूर्व लोकसभा स्पीकर और सीनियर बीजेपी लीडर सुमित्रा महाजन से ऐसा खुलासा किया है, जो उनकी पार्टी के लिए शर्मिंदगी की वजह बन सकता है। दरअसल, महाजन ने कहा है कि जब उनकी पार्टी मध्य प्रदेश की सत्ता में थी तो उन्हें इंदौर से जुड़ी समस्याओं को उठाने के लिए कांग्रेसी नेताओं की मदद लेनी पड़ती थी।

उन्होंने इसके पीछे दलील दी कि भाजपा के अनुशासन से बंधी होने के कारण वह अपनी ही पार्टी की तत्कालीन सरकार की नीतियों के खिलाफ सार्वजनिक रूप से कुछ नहीं कह सकती थीं। “ताई” के नाम से मशहूर इंदौर की पूर्व लोकसभा सांसद का यह बयान सोशल मीडिया पर तेजी से फैल रहा है।

महाजन ने रविवार रात यहां एक कार्यक्रम में सूबे के स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट और उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी का जिक्र करते हुए कहा, “जब हम इंदौर का विकास करने निकलते हैं, तो अपने मन में दलगत राजनीति की भावना नहीं रखते।” उन्होंने कहा, “कई बार ऐसे अवसर भी आए, जब मैं जनहित के कुछ मुद्दों पर प्रदेश में अपनी पार्टी की सरकार (शिवराज की अगुवाई वाली पूर्ववर्ती भाजपा सरकार) के खिलाफ नहीं बोल सकती थी। तब मैं धीरे से उन्हें (कांग्रेस नेताओं को) बोलती थी कि वे इन मुद्दों को उठाएं और इसके बाद मैं शिवराज (तत्कालीन मुख्यमंत्री) से बात कर उचित कदम उठाने को कह दूंगी।”

महाजन ने दावा किया कि कांग्रेस नेताओं ने इंदौर के भले के लिये उनकी बात हमेशा मानी है। इस बीच, महाजन के बयान की तारीफ करते हुए राज्य के स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट ने सोमवार को कहा कि इंदौर की पूर्व सांसद की बात सकारात्मक अर्थों में ली जानी चाहिए। सिलावट ने कहा, “ताई (महाजन) की हमेशा यही सोच रहती है कि इंदौर क्षेत्र के विकास में सभी दलों के नेता एक-दूसरे के सहायक बनें।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अयोध्या: ये तो हिंदुओं को गुनाहों का इनाम और एक तरह से बाबरी मस्जिद नष्ट करने का निर्देश है- रिव्यू पिटीशन में मुस्लिम पक्ष ने कहा
2 उद्धव ठाकरे ने पलटा फडणवीस सरकार का बड़ा फैसला, गुजरात की कंपनी को दिया 321 करोड़ का ठेका रद्द
3 कृषि संकट, बेरोजगारी और मंदी इस देश को मोदी सरकार को ‘तोहफा है- कांग्रेस
जस्‍ट नाउ
X