scorecardresearch

भाजपा में शामिल हुए पूर्व IPS असीम अरुण, अनुराग ठाकुर बोले- दंगाई सपा में जाते हैं, आजम खान का नाम ले साधा निशाना

अनुराग ठाकुर ने जेल में बंद सपा नेता आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम का नाम लेकर समाजवादी पार्टी पर निशाना साधा और कहा कि दंगाई सपा में जाते हैं।

भाजपा में शामिल हुए पूर्व आईपीएस अधिकारी असीम अरुण (फोटो: एएनआई)

रविवार को कानपुर के पूर्व पुलिस आयुक्त और आईपीएस अधिकारी असीम अरुण भाजपा में शामिल हो गए। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने उन्हें पार्टी में शामिल कराया। इस दौरान अनुराग ठाकुर ने जेल में बंद सपा नेता आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम का नाम लेकर समाजवादी पार्टी पर निशाना साधा और कहा कि दंगाई सपा में जाते हैं।

असीम अरुण के भाजपा में शामिल होने के दौरान केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि सपा में वो जाते हैं जो दंगा करते हैं, भाजपा में वो शामिल होते हैं जो दंगाईयों को पकड़ते हैं। सपा के समाजवाद का यही असली खेल, प्रत्याशी को या तो बेल या फिर जेल। आगे उन्होंने कहा कि सपा ने अपने जो उम्मीदवार घोषित किए हैं, उनमें से एक नाहिद हसन जेल में है और उनका दूसरा एमएलए अब्दुल्ला आजम बेल पर है। जेल और बेल का खेल ही समाजवादी पार्टी का असली खेल है।

वहीं असीम अरुण ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी धन्यवाद देना चाहता हूं, जिन्होंने प्रदेश भर में कानून का एक बेहतर माहौल तैयार किया और पुलिस अधिकारियों को या सभी को पूरी ईमानदारी से काम करने की प्रेरणा दी। मैं आभारी हूं कि आज मुझे भाजपा में काम करने का मौका मिल रहा है और मेरी पूरी कोशिश भी रहेगी कि मैं यहां भी अपना बेहतर करने का प्रयास करूं।

असीम अरुण ने यह भी कहा कि मैं आपको बता सकता हूं कि पुलिस अधिकारियों के लिए भाजपा की सरकार के दौरान सबसे ज्यादा स्वतंत्र माहौल रहा, किसी अधिकारी के पास कभी सिफारिश नहीं आई। वहीं इस दौरान मौजूद रहे प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि ईमानदार अधिकारी के पार्टी में आने से पार्टी का कद बढ़ेगा और दलित समाज में एक संदेश जाएगा।

असीम अरुण 1994 बैच के आईपीएस अधिकारी रहे हैं। ईमानदार अधिकारी माने जाने वाले अरुण कानपुर के आयुक्त रहने से पहले 112 और आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) के प्रमुख के पद पर तैनात थे। उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) के लिए एक कमांडो प्रशिक्षण भी किया हुआ है। वे हाथरस, बलरामपुर, गोरखपुर, अलीगढ़, सिद्धार्थनगर सहित कई जिले के कप्तान रह चुके हैं। असीम अरुण के पिता श्रीराम अरुण भी आईपीएस रह चुके हैं और उन्होंने राज्य में आतंकवाद निरोधी दस्ते का गठन भी किया था।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट