ताज़ा खबर
 

शाह फैसल बोले- दो साल पहले ही सोचा था IAS छोड़ दूंगा, केजरीवाल और इमरान खान मेरे रोल मॉडल

शाह ने उड़ रहीं सारी अफवाहों पर विराम लगाते हुए कहा कि अभी वह किसी पार्टी में शामिल नहीं होंगे। हालांकि, शाह ने कहा कि उन्हें खुशी होगी कि अगर वह अगला लोकसभा चुनाव लड़ते हैं।

2010 बैच के आईएएस शाह फैसल (फोटो सोर्स : ANI)

कश्मीर के पहले आईएएस बने शाह फैजल नौकरी से इस्तीफा देकर अब राजनीति में दांव आजमाने जा रहे हैं। उनके इस्तीफे के बाद कई अफवाहें उड़ने लगीं कि कि वह नेशनल कॉन्फ्रेंस के साथ जुड़ेंगे और पार्टी के टिकट पर आगामी लोकसभा चुनाव लड़ेंगे। लेकिन खुद शाह फैसल ने सामने आकर बयान दिया है। शाह ने उड़ रहीं सारी अफवाहों पर विराम लगाते हुए कहा कि अभी वह किसी पार्टी में शामिल नहीं होंगे। हालांकि, शाह ने कहा कि उन्हें खुशी होगी कि अगर वह अगला लोकसभा चुनाव लड़ते हैं। इसके साथ ही शाह ने कहा कि, वह दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से खासा प्रभावित हैं।

2010 बैच के आईएएस शाह फैसल ने कहा कि, वह दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की राजनीति के तरीके से बहुत प्रभावित हुए हैं। लेकिन जम्मू कश्मीर के हालात उन्हें उनकी शैली में राजनीति करने की इजाजत नहीं देंगे। इसके साथ ही शाह ने कहा कि हम जानते हैं कि हम एक संघर्ष वाले क्षेत्र में काम कर रहे हैं और हमारा उस जगह पर काम करना बहुत आसान नहीं है। उन्होंने कहा कि नौकरी छोड़ने के बारे में दो साल पहले ही सोच लिया था।

राजनीतिक पार्टी में शामिल होने पर शाह ने कहा कि, अभी किसी भी पॉलिटिकल पार्टी में शामिल होने का कोई प्लान नहीं है। सिर्फ लोगों से मिलना चाहता हूं। जमीनी स्तर पर जाकर युवाओं की बात सुनना चाहता हूं। अपने शुभचिंतकों से मिलूंगा। इसके बाद ही कोई फैसला लूंगा। शाह ने कहा कि, मैं उम्मीद करूंगा कि अगर राज्य के युवा उन्हें ऐसा मौका देते हैं तो वह इमरान खान और अरविंद केजरीवाल बनकर दिखाएंगे।

शाह फैसल ने कहा, ‘ लोकसभा चुनाव 2019 का चुनाव लड़कर मुझे खुशी मिलेगी। मैं मानता हूं कि संसद और विधानसभा महत्वपूर्ण जगह हैं और हमें वहां सही लोगों की जरूरत है।’ शाह के सामने अलगाववादी संगठन हुर्रियत कांफ्रेंस में शामिल होने का सवाल भी उठा। इस पर उन्होंने कहा कि मैं ऐसा नहीं करने जा रहा क्योंकि वह अपनी विशेषज्ञता का इस्तेमाल नहीं कर पाऊंगा।

बता दें कि आईएएस शाह फैसल ने 9 जनवरी को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। शाह ने सोशल मीडिया पर पोस्ट के जरिए केंद्र सरकार को भी निशाना बनाया था। शान ने लिखा था कि, ‘कश्मीर में जारी मौतों पर केंद्र सरकार की कोशिशों में गंभीरता नहीं नजर आती। शाह ने आगे लिखा था कि, करीब 20 करोड़ मुस्लिम हिंदूवादी ताकतों के हाथ में हैं’। फैसल का स्वागत करते हुए नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर शाह का स्वागत किया। साथ ही कहा- शाह का इस्तीफा देना ब्यूरोक्रैसी के लिए नुकसानदेह है पर राजनीति के लिए फायदेमंद।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App