ताज़ा खबर
 

31 अक्टूबर को VRS ले चुके पूर्व वित्त सचिव बोले- फिर हो सकती है नोटबंदी, अगली बार 2000 के नोट पर वार

पूर्व वित्त सचिव ने एक नोट लिखा है, जिसमें उन्होंने बदलाव संबंधी कई सुझाव दिए हैं। इनमें 2000 रुपये के नोट को प्रचलन से बाहर करने का भी सुझाव शामिल है।

Author Updated: November 8, 2019 12:21 PM
पूर्व वित्त सचिव ने कहा कि 2000 रुपये का नोट प्रचलन से बाहर हो सकता है। (फाइल फोटो सोर्स: द इंडियन एक्सप्रेस)

देश की जनता को एक बार फिर नोटबंदी से दो-चार होना पड़ सकता है। 31 अक्टूबर को वीआरएस ले चुके पूर्व वित्त सचिव के मुताबिक अगली बार 2000 रुपये के नोट पर वार किया जा सकता है। 2000 रुपये के नोट की ट्रांजैक्शन से जुड़ी प्रासंगिकता को नहीं देखते हुए सरकार इसे प्रचलन से बाहर कर सकती है। दरअसल, पूर्व वित्त सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों का राष्ट्रीयकरण खत्म करने और निजीकरण को बढ़ावा देने, आरबीआई के बजाय निजी स्तर पर ऋण प्रबंधन तथा ऑफ-बजट उधार की परिपाटी को खत्म करने समेत 2000 रुपये के नोट को प्रचलन से बाहर करने वाले कुछ सुझाव दिए हैं।

72 पृष्ठ के एक नोट में कहा गया है कि भारत की राजकोषीय प्रबंधन प्रणाली (Fiscal Management) “उन प्रथाओं का उपयोग करती है जो अच्छी और स्थिर नहीं है तथा घाटे का स्तर बना रहता है। गर्ग ने कहा कि उच्च ऋण स्तर “हमारी क्रेडिट रेटिंग पर एक बाधा है” और राजस्व का एक बड़ा हिस्सा इन ऋणों को चुकाने में व्यय होता है।” गर्ग ने वित्त सचिव का पद छोड़ने से पहले 100 प्रमुख नीतियों और शासन तथा अर्थव्यवस्था में सुधार संबंधी सुझावों से जुड़े नोट की एक प्रति सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों को सौंप दी थी।

2000 रुपये के करेंसी नोटों पर गर्ग ने कहा, “ 2000 रुपये का एक अच्छा हिस्सा प्रचलन में नहीं है। इन्हें रोका गया है। ट्रांजैक्शन के रूप में फिलहाल 2000 रुपये के नोटों का इस्तेमाल नहीं हो रहा है। बिना किसी बाधा को उत्पन्न किए, इसे तुरंत प्रचलन से बाहर किया जा सकता है। इसके अलावा गर्ग ने ऑफ बजट उधार, खाद्य एवं उर्वरक सब्सिडी के भुगतान आदि को खत्म करने की सिफारिश की है।

गर्ग ने एक भूमि प्रबंधन निगम (Land Management Corporation) बनाने का सुझाव दिया, जो कि एक प्रकार से बाहरी हस्तक्षेप से मुक्त वेल्थ फंड होगा। उन्होंने बताया कि घाटे में चल रही सार्वजनिक उपक्रमों की सभी भूमि और भवनों को इस निगम को हस्तांतरित किया जाना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 संजय राउत का शिव सैनिकों को संदेश- आइए, अर्जुन की तरह उद्घोष करें, ‘‘न दैन्यं न पलायनम्।’’
2 Maharashtra Government Formation Updates: शिवसेना का BJP से सवाल- भाजपा सरकार बनाने का दावा पेश क्यों नहीं कर रही?
3 तीस हजारी मामला: CCTV फुटेज में खुलासा- वकीलों ने महिला डीसीपी को घेरा, बॉडीगार्ड का रिवॉल्वर छीना, NCW ने लिया संज्ञान
ये पढ़ा क्या?
X