ताज़ा खबर
 

शीला दीक्षित को पसंद था साइकिल चलाना, नहीं चाहती थीं राजनीति में आना

शीला दीक्षित ने आत्मकथा "सिटीजन दिल्ली: माय टाइम्स, माय लाइफ" में बताया कि किन परिस्थितियों में और किनकी वजह से राजनीति में आईं।

शीला दीक्षित का जन्‍म पंजाब के कपूरथला में हुआ है। उनकी शादी यूपी के एक बड़े राजनीतिक घराने में हुई।

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने अपने जीवन से जुड़ी घटनाओं को कागज पर उतारा है। जल्द ही ये किताब के रूप में “सिटीजन दिल्ली: माय टाइम्स, माय लाइफ” नाम से लोगों के सामने आने वाली है। किताब के प्रकाशक ब्लूम्सबरी इंडिया ने गुरुवार (18 जनवरी) को यह जानकारी दी। पुस्तक का विमोचन 27 जनवरी को जयपुर साहित्य महोत्सव में किया जाएगा जो कि पाठकों को महिला नेता के जीवन से रू-ब-रू कराएगी । इस मौके पर शीला दीक्षित ने कहा, “जब मैं पीछे देखती हूं तो मैं एक भारतीय महिला को देखती हूं जिसमें आज भी लोगों को आधुनिक रंग ढंग दिखाई देते होंगे, जो अपने जीवन के महत्वपूर्ण निर्णय खुद लेती है और उनके लिए जिम्मेदार है।”

उन्होंने कहा कि यह आत्मकथा उस लड़की के बारे में है कि कैसे ब्रांड न्यू लुटियन दिल्ली में पेड़ों के किनारे साइकिल चलाना पसंद करने वाली लड़की ने पांच दशक बाद मुख्यमंत्री के तौर पर न सिर्फ दिल्ली की कमान संभाली बल्कि उसे बदला भी। वो भी 1998 से 2013 तक लगातार तीन कार्यकालों में। किताब में इस बात का भी खुलासा किया गया है कि शीला कभी राजनीति में नहीं आना चाहती थीं। इस बदलाव के लिए वो अपने उदार और अग्रसोची पंजाबी परिवार को श्रेय देती हैं।

HOT DEALS
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 15390 MRP ₹ 17990 -14%
    ₹0 Cashback

बता दें कि शीला दीक्षित का जन्‍म पंजाब के कपूरथला में हुआ है। उनकी शादी यूपी के एक बड़े राजनीतिक घराने में हुई। उनके ससुर उमा शंकर दीक्षित उन्‍नाव के रहने वाले थे। वह बंगाल के गवर्नर थे। उनके बेटे विनोद दीक्षित से शीला दीक्षित की शादी  हुई थी। विनोदी आईएएस अधिकारी थे। जब वह आगरा के डीएम थे, तब शीला समाजसेवा में सक्रिय थीं। बाद में वह राजनीति में आ गईं। वह 1984-89 के बीच कन्नौज से सांसद भी रह चुकी हैं। हालांकि, उसके बाद लगातार तीन चुनावों में उन्हें हार का मुंह भी देखना पड़ा। शीला दीक्षित को दिल्ली में तेज विकास के लिए जाना जाता है, वहीं उनके शासन काल में कई घोटाले भी हुए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App