ताज़ा खबर
 

भारत के पूर्व चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी करेंगे नेपाल की मौजूदा चुनाव आयुक्त इला शर्मा से शादी

कुरैशी ने सेंट स्टीफेंस कॉलेज से पढ़ाई की है। वहीं इला शर्मा ने गोरखपुर यूनिवर्सिटी और संपूर्णानंद संस्कृत यूनिवर्सिटी, वाराणसी से पढ़ाई की है।

Author October 6, 2016 2:17 PM
भारत के पूर्व चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी और नेपाल की मौजूदा चुनाव आयुक्त इला शर्मा।

भारत के पूर्व चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी और नेपाल की मौजूदा चुनाव आयुक्त इला शर्मा पिछले साल मेक्सिको में एक कॉन्फ्रेंस के दौरान मिले थे। इस कॉन्फ्रेंस के बाद दोनों में नजदीकियां बढ़ीं। अंग्रेजी अखबार The Telegraph की रिपोर्ट के मुताबिक अब कुरैशी और शर्मा दोनों आपस में शादी करने जा रहे हैं। सितंबर 2015 में मेक्सिको में हुई ‘राजनीतिक में पैसा’ कॉन्फ्रेंस के बाद 69 वर्षीय कुरैशी और 49 वर्षीय शर्मा के बीच नजदीकियां बढ़ने लगी थीं, जिसकी राजनीतिक सर्किल में भी काफी चर्चाएं थीं। खुदर कुरैशी ने स्वीकार किया है कि दोनों के बीच व्यक्तिगत रिश्ते हैं। कुरैशी ने साथ ही बताया कि उन्होंने दो बार शादी करने की योजना बनाई, लेकिन किन्हीं वजहों से देरी होती रहती। अखबार ने सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट में लिखा है कि दोनों को परिवारवालों की ओर से विरोध झेलना पड़ा है।

वीडियो में देखें- आर्मी कैंप पर आतंकी हमला

कुरैशी का जन्म 11 जून 1947 को दिल्ली में हुआ था। कुरैशी ने सेंट स्टीफेंस कॉलेज से पढ़ाई की है। वे 1971 बैच के आईएएस अधिकारी भी रहे हैं। कुरैशी ने आईएएस रहते हुए कई अहम पदों की जिम्मेदारी संभालते हुए भारत के 17वें मुख्य चुनाव आयुक्त बने थे। उन्होंने पत्रकार और स्तंभकार हुमरा कुरैशी से शादी की थी, लेकिन बाद में तलाक हो गया। वहीं इला शर्मा ने गोरखपुर यूनिवर्सिटी और संपूर्णानंद संस्कृत यूनिवर्सिटी, वाराणसी से पढ़ाई की है। उनके पति की मौत करीब 15 साल पहले एक नक्सली हमले में हो गई थी।

Read Also:  रामचंद्र गुहा बोले- रिटायर हों राहुल गांधी, शादी करें और घर बसाएं, 15-20 साल तक BJP ही करेगी राज

कुरैशी युथ डवलपमेंट की हमेशा पैरवी करते रहे हैं। उन्होंने तमिलानडु में राजीव गांधी नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ यूथ डवलपमेंट की स्थापना की थी। इसके बाद साल 1993 से 1997 तक इसके डायरेक्टर रहे। वे मिनिस्ट्री ऑफ यूथ अफेयर्स एंड स्पोर्ट्स के सेक्रेट्री भी रहे हैं। इसके अलावा कुरैशी नाको और दूरदर्शन के डीजी भी रहे हैं। भारत के प्रमुख चुनाव आयुक्त रहते हुए कुरैशी ने चुनावी प्रक्रिया में कई बदलाव किए। उन्होंने चुनाव में पैसे के इस्तेमाल पर काफी हद तक रोक लगाने की कोशिश की। इसके साथ ही उन्होंने इंडिया इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डेमोक्रेसी एंड इलेक्शन मैनेजमेंट की स्थापना की। इसका मकसद इलेक्शन मैनेजमेंट को सही करना था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App