ताज़ा खबर
 

विशेष: ‘सिलेटिया पर पिलसिन घुमाएम’

ऐसे गीतों की परंपरा को फिर से जीवंत और लोकप्रिय बनाने में जुटीं लोकगायिका चंदन तिवारी बताती हैं कि ये गीत आज भी गांव-कस्बों के हजारों लोगों को कंठस्थ हैं। फर्क सिर्फ यह पड़ा है कि लोकगीतों की फूहड़ता को उभार कर लोकगायन का जो बाजारू संस्करण सामने आया है, उसके शोर में इन गीतों की आवाज थोड़ी कमजोर पड़ गई है।

भारतीय संस्कृति में लोकगायन और लोकगीतों का बड़ा महत्व है। भारतीयता की जड़ों से जुड़े रहने में इनकी काफी भूमिका रही है।

महात्मा गांधी के राष्ट्रीय आंदोलन के केंद्र में आने का भारतीय लोकमानस के साथ संस्कृति पर भी गहरा प्रभाव देखने को मिला। इस कारण न सिर्फ चरखा से लेकर स्वराज गीतों की एक समृद्ध लोक परंपरा सामने आई बल्कि यह भी दिखा कि किसी भी बड़े परिवर्तन को अपनाने में हमारा लोक संस्कार कहीं पीछे नहीं है।

ऐसे गीतों की परंपरा को फिर से जीवंत और लोकप्रिय बनाने में जुटीं लोकगायिका चंदन तिवारी बताती हैं कि ये गीत आज भी गांव-कस्बों के हजारों लोगों को कंठस्थ हैं। फर्क सिर्फ यह पड़ा है कि लोकगीतों की फूहड़ता को उभार कर लोकगायन का जो बाजारू संस्करण सामने आया है, उसके शोर में इन गीतों की आवाज थोड़ी कमजोर पड़ गई है। चंदन कहती हैंं कि ये लोकगीत हमारे लिए ऐसी सांस्कृतिक विरासत हैं जिससे जुड़कर जीवन और समाज में कई रचनात्मक पहल को हम आज भी आगे बढ़ा सकते हैं।

ऐसी ही मान्यता इस वर्ष पद्मश्री पुरस्कार से नवाजी गईं लोकगायिका डॉ शांति जैन की भी है। जैन बताती हैं कि समय के साथ लोकगीतों के स्वर न सिर्फ बदले हैं बल्कि वे खासे प्रखर और जागरूक भी हुए हैं। खासतौर पर महिलाओं के बीच शिक्षा के प्रसार में ‘खेतवा में दिन भर खुरपिया चलाएम, आके सिलेटिया पर पिलसिन घुमाएम’ सरीखे लोकगीतों ने बड़ी भूमिका निभाई है।

पर्यावरण और स्वच्छता को लेकर भी लोक जागरूकता की ऐसी ही पहल कोहबर के चित्रों से लेकर पारंपरिक विवाह या संस्कार गीतों में भी देखी जा सकती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 विशेष: बदलाव की संस्कृति का श्री गणेश
2 VIDEO: सुबुही खान से बोले मौलाना- हिंदू से शादी कैसे कर ली? ये लव जिहाद; पैनलिस्ट ने यूं दिया कड़ा जवाब
3 Delhi Riots 2020 से जुड़ी बुक पर विवाद, Bloomsbury India के इनकार के बाद अब Garuda प्रकाशन छापेगा किताब
ये पढ़ा क्या?
X