ताज़ा खबर
 

करतारपुर कारिडोर पर भारत और पाक की पहली बैठक 14 को

करतारपुर गलियारे को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय के ऐलान के बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अपने देश में कहा कि पाकिस्तान अपने उच्चायुक्त को वापस भारत भेज रहा है और नई दिल्ली के साथ तनाव कम करने के लिए बातचीत को तैयार है।

भारत और पाकिस्तान के बीच पहली सचिव स्तरीय बैठक हुई। (फोटो सोर्स : PTI)

भारत और पाकिस्तान के बीच करतारपुर साहिब कारिडोर पर चर्चा करने और उसके तौर-तरीके को अंतिम रूप देने के लिए 14 मार्च को पहली बैठक  अटारी-वाघा सीमा पर होगी। इस बैठक के मद्देनजर पाकिस्तान ने नई दिल्ली स्थित अपने उच्चायुक्त सोहेल महमूद को वापस भेजने का फैसला किया है। पुलवामा में आतंकी हमला और उसके बाद बालाकोट में भारतीय वायुसेना के लक्षित हमले के बाद बढ़े तनाव के बीच माहौल में नरमी लाने की कवायद के तहत दोनों देशों के बीच पहली वार्ता 14 मार्च को होगी।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि गुरुनानक देवजी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर और लोगों की पवित्र गुरुद्वारा करतारपुर साहिब तक जाना सुगम बनाने की बहुप्रतिक्षित मांग को पूरा करने के मकसद से करतारपुर साहिब कारिडोर को शुरू करने के सरकार के निर्णय के अनुरूप भारत और पाकिस्तान के बीच पहली बैठक आयोजित होगी। मंत्रालय के मुताबिक, भारत ने प्रस्ताव किया है कि इस बैठक से इतर उसी दिन कारिडोर के सर्वे के विषय पर तकनीकी स्तर पर की चर्चा हो। इस बैठक की तैयारियों के मद्देनजर पाकिस्तान ने अपना उच्चायुक्त नई दिल्ली वापस भेजने का फैसला किया है। पुलवामा आतंकी हमले के घटनाक्रमों में दोनों देशों के बीच तनाव काफी बढ़ गया था और पाकिस्तान ने अपना उच्चायुक्त वापस बुला लिया था।

करतारपुर गलियारे को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय के ऐलान के बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अपने देश में कहा कि पाकिस्तान अपने उच्चायुक्त को वापस भारत भेज रहा है और नई दिल्ली के साथ तनाव कम करने के लिए बातचीत को तैयार है। कुरैशी ने कहा कि दोनों देशों के संबंधों में अमेरिका, चीन और रूस जैसे देशों के कूटनीतिक प्रयासों की वजह से तनाव में कमी आई है। उन्होंने कहा कि यह अपने विवादों को खत्म करने और शांति की दिशा में आगे बढ़ने का समय है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान भारत के साथ उन सभी मुद्दों को सुलझाना चाहता है जो दोनों देशों के बीच शांति में बाधक हैं। भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव घट रहा है और यह एक सकारात्मक घटनाक्रम है। उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान ने कूटनीतिक प्रयास और बढ़ा दिए हैं और पाकिस्तानी उच्चायुक्त (सोहेल महमूद) को वापस भेजने का फैसला किया है’।

Next Stories
1 बालाकोट में पहुंचाए नुकसान के सबूत वायुसेना ने सरकार को सौंपे
2 IAF Strike: वायुसेना ने सरकार को सौंपी राडार और उपग्रह की तस्वीरें, जैश के ठिकानों को हुआ भारी नुकसान!
3 Rafale Deal: चोरी के दस्तावेज पर भरोसा करें या नहीं? सुप्रीम कोर्ट में सरकारी वकील और जजों में हुई गर्मागर्म बहस
ये पढ़ा क्या?
X