ताज़ा खबर
 

अब से इस लिबास में दिखेंगे जनरल बिपिन रावत, देखें कैसी है देश के पहले CDS की यूनिफॉर्म

जनरल रावत ने 31 दिसंबर 2016 को सेना प्रमुख का पद संभाला था। वह मंगलवार को सेवानिवृत्त हो रहे थे। सेना प्रमुख बनने से पहले उन्होंने पाकिस्तान से लगी नियंत्रण रेखा, चीन से लगी वास्तविक नियंत्रण रेखा और पूर्वोत्तर में विभिन्न संचालनात्मक जिम्मेदारियां संभाल चुके थे।

सीडीएस के जिम्मे तीनों बलों थलसेना, नौसेना और वायु सेना से जुड़े कार्य तथा वर्तमान नियमों और प्रक्रियाओं के अनुरूप सेवाओं के लिए विशेष खरीद जैसे कार्य होंगे। (Image source: ADG PI Indian Army)

पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत को सोमवार को देश का पहला चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) नियुक्त किया गया। सीडीएस का काम सेना, नौसेना और वायुसेना के कामकाज में बेहतर तालमेल लाना होगा। सरकारी आदेश के मुताबिक सीडीएस के पद पर जनरल रावत की नियुक्ति 31 दिसंबर से प्रभावी होगी। सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत का यूनिफॉर्म कैसा होगा इस पर सभी की निगाहें है।

सूत्रों की मानें तो CDS की वर्दी के कंधे पर सेना के तीनों अंगों के प्रतिनिधित्व के लिए सुनहरी रैंक्स वाला भूरा पैच होगा। CDS की कैप पर अलंकरण के जरिए सेना के तीनों अंगों की झलक होगी। कंधे के रैंक पर अशोक चिन्ह होगा, जिसमें दो तलवार, गरुड़ और एंकर होगा जो सेना के तीनों अंगों को दर्शाएगा। रैंकों को सूचित करने के लिए कंधे पर तलवार और बैटन या सितारे नहीं होंगे।

गौरतलब है कि जनरल रावत ने 31 दिसंबर 2016 को सेना प्रमुख का पद संभाला था। वह मंगलवार को सेवानिवृत्त हुए हैं। सेना प्रमुख बनने से पहले उन्होंने पाकिस्तान से लगी नियंत्रण रेखा, चीन से लगी वास्तविक नियंत्रण रेखा और पूर्वोत्तर में विभिन्न संचालनात्मक जिम्मेदारियां संभाल चुके थे।

सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने पिछले मंगलवार को सीडीएस का पद बनाए जाने को मंजूरी दी थी जो तीनों सेनाओं से जुड़े सभी मामलों में रक्षा मंत्री के प्रधान सैन्य सलाहकार के तौर पर काम करेगा।

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 आर्मी चीफ का कार्यभार संभालते ही पाकिस्तान पर जनरल मनोज मुकुंद नरावने का निशाना- आतंक है पड़ोसी मुल्क की पॉलिसी
2 महाराष्ट्रः मंत्रिमंडल में न किए गए शामिल, तो Congress विधायक के समर्थकों ने पार्टी कार्यालय पर बोला हमला
3 JU प्रोफेसर ने लगाया BJP वर्कर पर धक्कामुक्की का आरोप, कहा ‘मेरी खून की प्यासी हो गईं थी कार्यकर्ता’
ये पढ़ा क्या?
X