scorecardresearch

हेट स्पीच का पहला केस उस पर लगे जिन्‍होंने कपड़ों से पहचानने की बात कही, उनका नाम नरेंद्र मोदी है, बोले पवन खेड़ा

पवन खेड़ा ने ट्वीट कर कहा था कि कौन है जो देश में कट्टरता का माहौल बना रहा है? कौन है जो समाज में विवाद पैदा कर रहा है? कौन है जो नफ़रत फैला कर राजनीतिक लाभ प्राप्त कर रहा है? सब जानते हैं वो कौन है सब देख रहे हैं वो मौन है।

हेट स्पीच का पहला केस उस पर लगे जिन्‍होंने कपड़ों से पहचानने की बात कही, उनका नाम नरेंद्र मोदी है, बोले पवन खेड़ा
कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा(फोटो सोर्स: ANI/फाइल)।

देश में हेट स्पीच (Hate Speech) के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार अब जल्द ही इसे लेकर सख्त कानून लेकर आने वाली है। इस बारे में बात करते हुए कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने कहा कि हेट स्पीच का पहला केस उस पर लगे जिन्‍होंने कपड़ों से पहचानने की बात कही, उनका नाम नरेंद्र मोदी है।

कांग्रेस ने अपने ट्विटर अकाउंट पर पवन खेड़ा का बयान शेयर कर लिखा, “इस देश के लोगों को कपड़ों के आधार पर बांट देने से बड़ा देशद्रोह क्या ही होगा और ये पीएम मोदी ने किया था।” दरअसल, सोशल मीडिया पर बढ़ते नफरती कंटेंट को लेकर केंद्र सरकार जल्दी ही हेट स्पीच को लेकर सख्त कानून लाने की तैयारी कर ली है। इस कानून का ड्राफ्ट तैयार किया जा रहा है और हो सकता है कि मानसून सत्र में इस पर संसद में बहस देखने को मिल जाए।

तय होगी हेट स्पीच की परिभाषा: एंटी हेट स्पीच कानून को लेकर सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों, अन्य देशों के कानूनों और अभिव्यक्ति की आजादी के तमाम पहलुओं को ध्यान में रखते हुए कानून का ड्राफ्ट तैयार किया जा रहा है। सिर्फ हिंसा फैलाने वाला कंटेंट ही नहीं बल्कि झूठ फैलाने और आक्रामक विचार रखने वाले भी इस कानून के दायरे में आएंगे। कानून के तहत हेट स्पीच की परिभाषा तय की जाएगी ताकि लोगों को पता रहे कि जो वो बोल या लिख रहे हैं, वह कानून के दायरे में आता है या नहीं।

बीजेपी नेताओं के खिलाफ FIR: वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस ने सोमवार को कहा कि भाजपा सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौर और सुब्रत पाठक के खिलाफ उनकी शिकायत पर FIR दर्ज की गई है। पार्टी प्रवक्ता पवन खेड़ा ने एक प्रेस रिलीज में कहा कि छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में बीजेपी सांसदों और तीन अन्य के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज की गई है। पवन खेड़ा ने कहा कि कांग्रेस ने उनके खिलाफ दिल्ली, झारखंड, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में भी शिकायत दर्ज कराई है।

दरअसल, बीजेपी के कुछ नेताओं राज्यवर्धन सिंह राठौर, सांसद सुब्रत पाठक, कमलेश सैनी समेत कुछ नेताओं ने राहुल गांधी का फेक वीडियो शेयर किया था। जिसके बाद कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर कहा था कि वो अपने नेताओं की तरफ से माफी मांगें। साथ ही कहा गया था कि अगर भाजपा नेताओं ने माफी नहीं मांगी तो कांग्रेस पार्टी उनके खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई करेगी।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट