योगी आदित्यनाथ और भाजपा प्रत्याशी समेत अनेक लोगों पर मुकदमा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

योगी आदित्यनाथ और भाजपा प्रत्याशी समेत अनेक लोगों पर मुकदमा

लखनऊ। भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ तथा लखनऊ पूर्वी सीट के उपचुनाव में पार्टी प्रत्याशी आशुतोष टंडन गोपालजी समेत अनेक लोगों के खिलाफ अनुमति के बगैर रैली आयोजित कर आचार संहिता का उल्लंघन करने का मुकदमा दर्ज किया गया है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रवीण कुमार ने ‘भाषा’ को बताया कि अनुमति नहीं होने के बावजूद रैली […]

Author July 6, 2017 5:02 PM

लखनऊ। भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ तथा लखनऊ पूर्वी सीट के उपचुनाव में पार्टी प्रत्याशी आशुतोष टंडन गोपालजी समेत अनेक लोगों के खिलाफ अनुमति के बगैर रैली आयोजित कर आचार संहिता का उल्लंघन करने का मुकदमा दर्ज किया गया है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रवीण कुमार ने ‘भाषा’ को बताया कि अनुमति नहीं होने के बावजूद रैली आयोजित करके आचार संहिता का उल्लंघन करने के आरोप में आदित्यनाथ तथा टंडन समेत उन सभी लोगों के खिलाफ कल देर रात गाजीपुर थाने में थाना प्रभारी की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया, जो रैली में मौजूद थे।

उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग ने इस रैली के सिलसिले में रिपोर्ट मांगी थी जो भेज दी गयी है। इस रैली की वीडियोग्राफी की सीडी भी आयोग को भेजी जा रही है।

ज्ञातव्य है कि रैली के दौरान आदित्यनाथ और आशुतोष टंडन के अलावा भाजपा सांसद जगदंबिका पाल, लल्लू सिंह तथा पूर्व सांसद लालजी टंडन ने भी शिरकत की थी।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि आदित्यनाथ की रैली के मुख्य आयोजक मानसिंह की अर्जी पर प्रशासन ने गत सात सितंबर को ही आयोजन की इजाजत दे दी थी। बाद में मानसिंह ने ही कार्यक्रम रद्द होने की सूचना दी थी, जिसके आधार पर अनुमति स्वत: समाप्त हो गयी थी।

उन्होंने बताया कि कल कार्यक्रम से तीन-चार घंटे पहले ही मानसिंह ने रैली के लिये फिर से अनुमति मांगी। इस पर उनसे कहा गया कि चूंकि चुनाव आयोग ने आदित्यनाथ को नोटिस भेज रखा है और ऐन वक्त पर अनुमति मांगी जा रही है लिहाजा इजाजत दे पाना संभव नहीं है।

गौरतलब है कि अपने तल्ख बयानों के लिये पहचाने जाने वाले भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ ने कल प्रशासन की इजाजत के बगैर लखनऊ के मुंशी पुलिया इलाके में पार्टी प्रत्याशी आशुतोष टंडन के समर्थन में आयोजित जनसभा को संबोधित किया था।
आदित्यनाथ ने रैली की इजाजत वापस लिय जाने को सरकार के दबाव में किया गया काम करार देते हुए इसे तानाशाहीपूर्ण तथा अलोकतांत्रिक करार दिया था।

इस बीच, भाजपा प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि उनकी पार्टी जिला प्रशासन द्वारा की गयी कार्रवाई का कानून के हिसाब से जवाब देगी।

उन्होंने कहा कि हमें संवैधानिक इकाइयों पर पूरा भरोसा है। पार्टी ने कुछ भी गलत नहीं किया। आदित्यनाथ तो वहां पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने गये थे।

पाठक ने आरोप लगाया कि शुरु में इजाजत देने के बाद जिला प्रशासन ने ऐन वक्त पर अनुमति वापस ले ली। चूंकि हमने पहले से ही जनसभा के बारे में प्रचार कर दिया था, इसलिए वहां नेताओं का पहुंचना लाजमी था। इसके अलावा ना तो वहां संबोधन का कोई इन्तजाम किया गया था और ना ही मंच बनाया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App