ताज़ा खबर
 

आजम पर मामला दर्ज, चुनाव प्रचार पर रोक

उत्तर प्रदेश के रामपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से सपा-बसपा गठबंधन के संयुक्त उम्मीदवार आजम खां के एक कथित आपत्तिजनक बयान को लेकर प्राथमिकी दर्ज की गई है। चुनाव आयोग ने भी आजम के बयान का संज्ञान लेकर उनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनके चुनाव प्रचार करने पर 72 घंटे के लिए रोक लगा दी।

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खां। फोटो सोर्स : एएनआई

उत्तर प्रदेश के रामपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से सपा-बसपा गठबंधन के संयुक्त उम्मीदवार आजम खां के एक कथित आपत्तिजनक बयान को लेकर प्राथमिकी दर्ज की गई है। चुनाव आयोग ने भी आजम के बयान का संज्ञान लेकर उनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनके चुनाव प्रचार करने पर 72 घंटे के लिए रोक लगा दी। आजम खां अपने बयान को लेकर चौतरफा घिर गए हैं। राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी सख्ती दिखाते हुए कारण बताओ नोटिस भेजा है।दूसरी ओर, कांग्रेस ने आजम के खिलाफ चुनाव आयोग और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से कार्रवाई की मांग की है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आजम के बयान की द्रौपदी के चीरहरण से करते हुए मुलायम सिंह यादव को भीष्म बनकर मौन नहीं रहने की नसीहत दी है।

रामपुर के जिलाधिकारी बाकी पेज 8 पर आजेन्य कुमार सिंह ने सोमवार को कहा, ‘आजम खां के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 509 (किसी स्त्री की मर्यादा का अनादर करने के आशय से कोई अश्लील शब्द कहना या हावभाव प्रकट करना) और कुछ अन्य धाराओं में मामला दर्ज कराया गया है।’ आजम के इस विवादित बयान को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा की घटिया सोच बताया है जबकि भाजपा उम्मीदवार जया प्रदा ने कहा कि आजम खां ने लक्ष्मण रेखा पार कर ली है और अब वे (आजम) उनके भाई नहीं है।

आरोप है कि सपा नेता और यूपी के पूर्व मंत्री खां ने रविवार को अपने खिलाफ भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही अभिनेत्री और पूर्व सांसद जया प्रदा के खिलाफ उन्होंने अशालीन और अमर्यादित टिप्पणी की थी। आजम खां के उस भाषण का यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो गया। हालांकि आजम ने सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने अपने भाषण में किसी का नाम नहीं लिया, और अगर किसी का नाम लिया हो तो वे चुनाव नहीं लड़ेंगे। उन्होंने कहा, ‘मैंने किसी का नाम नहीं लिया, मैंने न किसी की खूबी बताई, न बुराई बताई। अगर कोई साहब साबित कर दे कि मैंने किसी का नाम लिया, नाम लेकर किसी की तौहीन की तो मैं चुनाव से हट जाऊंगा।’

उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आजम खां के विवादित बयान की निंदा की है। उन्होंने कहा कि आजम का यह बयान समाजवादी पार्टी की घटिया सोच को दर्शाता है। भाजपा उम्मीदवार जया प्रदा ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वह लक्ष्मण रेखा पार कर गए, अब मेरे लिए कोई (आजम) भाई नहीं है। भाई मान के सब कुछ सहने का काम किया था अब बर्दाश्त खत्म हो गया। जनता जो है वह बताएगी, लोग महिलाओं को पूजते है, यह आदमी क्या कर रहा है? इसको चुनाव लड़ने का अधिकार है। मैं चुनाव आयोग से अपील करती हूं कि इनकी चुनाव लड़ने की योग्यता खत्म की जाए।’ उन्होंने कहा, ‘मैं अखिलेश यादव को बोलती हूं कि ऐसे नेता को आप चुनाव लड़ा रहे हो, लानत है, उसे निष्कासित करना चाहिए।’

कांग्रेस ने आजम खां की आपत्तिजनक टिप्पणी की निंदा करते हुए चुनाव आयोग और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। पार्टी प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्वीट कर कहा कि जया प्रदा पर आजम खां की टिप्पणी का स्तर भद्दा और तुच्छ है। ऐसे बयान एक जीवंत लोकतंत्र के लिए अपमानजनक है। आशा करता हूं कि चुनाव आयोग और अखिलेश यादव इसका संज्ञान लेंगे और कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे।

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने आजम खां की टिप्पणी को बेहद अमर्यादित करार दिया। इसके बाद महिला आयोग की तरफ से आजम को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। इसके अलावा शर्मा ने चुनाव आयोग से भी गुजारिश की है कि वह आजम खां को चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित करे। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आजम के बयान की द्रौपदी के चीरहरण से तुलना करते हुए मुलायम सिंह यादव से कहा कि वह भीष्म पितामह की तरह मौन साधने की गलती ना करें।

वे लक्ष्मण रेखा पार कर गए। वे अब मेरे लिए भाई नहीं है। भाई मान के सब कुछ सहने का काम किया था, अब बर्दाश्त खत्म हो गया। जनता जो है वह बताएगी। लोग महिलाओं को पूजते हैं, यह आदमी क्या कर रहा है? इसको चुनाव लड़ने का अधिकार नहीं है। मैं चुनाव आयोग से अपील करती हूं कि इनकी चुनाव लड़ने की योग्यता खत्म की जाए।
-जया प्रदा, भाजपा उम्मीदवार

मैंने किसी का नाम नहीं लिया, मैंने किसी की ना खूबी बताई, न बुराई बताई। अगर कोई साबित कर दे कि मैंने किसी का नाम लिया, नाम लेकर किसी की तौहीन की तो मैं चुनाव से हट जाऊंगा।
– आजम खां, सपा उम्मीदवार

जया प्रदा पर आजम खां की टिप्पणी का स्तर भद्दा और तुच्छ है। ऐसा बयान एक जीवंत लोकतंत्र के लिए अपमानजनक है। आशा करता हूं कि चुनाव आयोग और अखिलेश यादव इसका संज्ञान लेंगे और कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे।
– अभिषेक मनु सिंघवी, कांग्रेस प्रवक्ता

मुलायम भाई, आप पितामह हैं समाजवादी पार्टी के। आपके सामने रामपुर में द्रौपदी का चीरहरण हो रहा है। आप भीष्म की तरह मौन साधने की गलती मत करिए।
– सुषमा स्वराज, विदेश मंत्री

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App