scorecardresearch

AltNews’ के मोहम्‍मद जुबैर के खिलाफ पिछले हफ्ते दर्ज की गई FIR, शिकायत दर्ज करने वाले अधिकारी ने कहा- मामला सेंसिटिव, नहीं करना था अपलोड

कुमार ने आगे कहा, भक्त @balajikijaiiin ने ट्वीट किया है कि हमारे भगवान हनुमान जी को हनीमून से जोड़ना हिंदुओं का सीधा अपमान है क्योंकि वह ब्रह्मचारी हैं। कृपया इस आदमी के खिलाफ कार्रवाई करें।

Alt News | Mohammad Zubair | Cyber Crime
मोहम्मद जुबैरः Photo Credit- Mohammed Zubair (Source: Twitter/@zoo_bear)

मोहम्मद जुबैर ऑल्ट न्यूज फैक्ट चेकिंग वेबसाइट के को-फाउंडर को दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने गिरफ्तार किया। मंगलवार को दिल्ली पुलिस की साइबर टीम के अधिकारियों ने बताया कि AltNews के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर के खिलाफ प्राथमिकी एक सप्ताह पहले ही दर्ज की गई थी। मामले में शिकायतकर्ता सब-इंस्पेक्टर अरुण कुमार हैं जो इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस सेल (IFSO) के साथ काम करते हैं। आपको बता दें कि ये स्पेशल सेल के तहत काम करता है और साइबर क्राइम और साइबर फोरेंसिक के मामलों को देखता है।

कुमार की शिकायत के बाद 20 जून को आईपीसी की धारा 153-ए जिसके मुताबिक विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना और धारा 295-ए इसके मुताबिक दुर्भावनापूर्ण कृत्य और धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाना के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी। एफआईआर में कहा गया है कि कुमार सोशल मीडिया मॉनिटरिंग सेल के आपातकालीन ड्यूटी अधिकारी के रूप में ड्यूटी पर थे और एक ट्विटर हैंडल हनुमान भक्त @balajikijaiiin के एक ट्वीट पर आए।

सब-इंस्पेक्टर अरुण कुमार ने खुद दर्ज करवाई थी शिकायत
कुमार ने बताया उन्होंने शिकायत में लिखा था। “आज, मैं दिल्ली पुलिस, द्वारका की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रेटेजिक ऑपरेशंस (IFSO) इकाई में एक आपातकालीन अधिकारी के रूप में मौजूद था और सोशल मीडिया निगरानी के दौरान मुझे इस बात का पता चला कि हनुमान भक्त नाम के एक ट्विटर हैंडल एक अन्य ट्विटर हैंडल के खिलाफ एक ट्वीट साझा किया मोहम्मद जुबैर @zoo_bear जिसमें यह ट्वीट किया गया है मोहम्मद जुबैर ने ‘2014 से पहले हनीमून होटल, 2014 के बाद हनुमान होटल … और एक होटल के साइन बोर्ड की तस्वीर दिखाई है, हनीमून होटल को हनुमान होटल में बदल दिया गया है। बोर्ड का कथित स्क्रीनशॉट 1983 की हिंदी फिल्म का है।

मामला संवेदनशील था इस वजह से नहीं अपलोड किया गया
कुमार ने आगे कहा, भक्त @balajikijaiiin ने ट्वीट किया है कि हमारे भगवान हनुमान जी को हनीमून से जोड़ना हिंदुओं का सीधा अपमान है क्योंकि वह ब्रह्मचारी हैं। कृपया इस आदमी के खिलाफ कार्रवाई करें। कुमार ने यह भी कहा कि मामले की जांच उनके पास होनी चाहिए और प्राथमिकी उनकी वेबसाइट पर अपलोड नहीं की जानी चाहिए क्योंकि इस शिकायत का नेचर थोड़ा संवेदनशील है।

एक विशेष धर्म समुदाय के खिलाफ थे शब्द
अपनी शिकायत में उन्होंने यह भी कहा, “ये शब्द और तस्वीर मोहम्मद जुबैर @zoo_bear द्वारा एक विशेष धार्मिक समुदाय के खिलाफ इस्तेमाल की गई और लोगों के बीच नफरत की भावना को भड़काने के लिए अत्यधिक उत्तेजक और पर्याप्त से अधिक है जो रखरखाव के लिए हानिकारक हो सकता है। समाज में सार्वजनिक शांति। इस तरह के पोस्ट का प्रसारण और प्रकाशन जानबूझकर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से किया गया है मोहम्मद जुबैर @zoo_bear शांति भंग को भड़काने के इरादे से एक विशेष समुदाय की धार्मिक भावनाओं का अपमान करने के लिए जो धारा 153-ए और 295 के तहत अपराध का है। ट्विटर हैंडल मोहम्मद जुबैर @zoo_bear से पोस्ट अपराध 153-ए और 295 बनाया गया है। कुमार ने जिस जुबैर के ट्वीट का जिक्र किया वह 2018 में पोस्ट किया गया था।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जुबैर के समर्थन में किया ट्वीट
ऑल्ट न्यूज के संपादक की गिरफ्तारी को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा है, बीजेपी की नफरत, कट्टरता और झूठ को उजागर करने वाला हर शख्स उनके लिए खतरा है. सत्य की एक आवाज को गिरफ्तार करने से केवल एक हजार और पैदा होंगे। अत्याचार पर सत्य की हमेशा विजय होती है। #DaroMat

जुबैर को एक दिन की हिरासत में भेजा गया
पुलिस के अनुसार उसे एक दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है और मंगलवार के बाद जमानत पर सुनवाई के लिए उसे अदालत में पेश किया जाएगा। इस महीने की शुरुआत में जुबैर ने तत्कालीन बीजेपी प्रवक्ता नुपुर शर्मा द्वारा पैगंबर मुहम्मद पर की गई टिप्पणियों पर प्रकाश डाला था। जिसकी खाड़ी देशों सहित कई देशों ने निंदा की थी। जिसकी वजह से बीजेपी को नूपुर शर्मा को निलंबित करना पड़ा और एक अन्य प्रवक्ता नवीन जिंदल को बर्खास्त करना पड़ा।

सोशल मीडिया पर एक धड़ा इस तस्वीर का मजाक उड़ाने में लगा था
IFSO डीसीपी केपीएस मल्होत्रा ​​ने सोमवार को बताया था, “दिल्ली पुलिस ने एक ट्विटर हैंडल से शिकायत मिलने के बाद एक मामला दर्ज किया है, जिसमें यह आरोप लगाया गया था कि मोहम्मद जुबैर ने एक भगवान की तस्वीर को जानबूझकर अपमान करने के उद्देश्य से ट्वीट किया था। इस तरह के ट्वीट्स को रीट्वीट किया जा रहा था और ऐसा मालूम हो रहा था कि सोशल मीडिया संस्थाओं की एक ब्रिगेड है जो इस तस्वीर का अपमान करने में लिप्त हैं। जिससे सांप्रदायिक सद्भाव पर संभावित प्रभाव पड़ता है और यह सार्वजनिक शांति बनाए रखने के खिलाफ है। ”

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X