ताज़ा खबर
 

Ola, Uber को मंदी का कारण बताने पर ट्रोल हुईं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

सोशल मीडिया पर लोगों ने वित्त मंत्री के बयान का मजाक उड़ाते हुए उनसे कई उलटे-सीधे सवाल किए हैं और उनका मजाक बनाया है।

सोशल मीडिया पर निर्मला सीतारमण को ट्रोल किया जा रहा है।(फोटो-ANI)

देश में आर्थिक मंदी और ऑटो सेक्टर में गिरावट को लेकर चर्चाएं तेज है। सोशल मीडिया के इस जमाने में यूजर्स मानो नेताओं के बयानों के इंतजार में बैठ होते हैं कि कब कोई विवादित या लापरवाही भरा बयान सामने आए और वह ट्रोल करना शुरू कर दें। ऐसा ही कुछ हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ जब वह ऑटो सेक्टर में आ रही मंदी को लेकर एक कॉन्फ्रेंस में एक बयान दिया जिसके बाद ट्विटर यूजर्स ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया। सोशल मीडिया पर लोगों ने वित्त मंत्री के बयान का मजाक उड़ाते हुए उनसे कई उलटे-सीधे सवाल किए हैं और उनका मजाक बनाया है।

निर्मला सीतारमण ने क्या कहा: दरअसल निर्मला सीतारमण ने चेन्नई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि ऑटोमोबाइल सेक्टर में आई मंदी का कारण Ola और Uber को बताया। उन्होंने कहा कि आजकल लोग गाड़ी खरीदने की जगह Ola और Uber को तरजीह दे रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने माइंडसेट में बदलाव और बीएस-6 मॉडल को भी जिम्मेदार ठहराया है। उनका कहना है कि आजकल लोग गाड़ी खरीदकर ईएमआई भरने की बजाए मेट्रो या ओला ऊबर से सफर करने को ज्यादा तवज्जो देते हैं।
सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया: Dusky Tamizhachi @JoshiRatsaschi ने लिखा- Laughable logic from Nimmy Aunty! Can’t believe the country’s finmin takes her cues from ‘Whatsapp’ forwards!

वहीं, Nеhr_who @Nehr_who ने लिखा है, Tea industry is facing crisis becoz ppl prefer coffee? Textile industry is facing crisis becoz ppl loves to roam naked? Manufacturing sector facing crisi becoz plant manufacture their own food,Kuch bhi

Syed Adil@syed__007Can’t blame her for this. What she is telling is totally a whatsapp forward. It’s easy to fool sanghis/bhakts with whatsapp forwards



Next Stories
1 पाकिस्तान ने UN में दी धमकी- जम्मू और कश्‍मीर में हो सकता है ‘नरसंहार’, आर्मी चीफ ने भी कीं भड़काऊ बातें
2 ऑटो सेक्टर में मंदी की वजह Ola और Uber! वित्त मंत्री ने बताई और भी वजहें
3 जम्मू कश्मीर में 3500 पंचायतों के चुनावों में 74% मतदाताओं ने चुने 35000 पंच: नायडू
ये पढ़ा क्या?
X