ताज़ा खबर
 

‘गाय की खाल के बैग’ पर धमकाने का आरोप लगाने वाले युवक ने कहा- करता हूं हिंदुओं से नफरत, दंगे फैलाने के लिए बोला झूठ

बरुण कश्यप ने 19 अगस्त को पुलिस में शिकायत दर्ज कराकर एक ऑटो ड्राइवर पर धमकाने का आरोप लगाया था।
फिल्म एग्जीक्यूटिव बरुण कश्यप। (Photo-Facebook)

दो महीने पहले एक ऑटो ड्राइवर द्वारा धमकाने का दावा करने वाले फिल्म एग्जीक्यूटिव बरुण कश्यप ने पुलिस हिरासत में एक अलग ही कहानी बयां की है। कश्यप ने अगस्त महीने में एक ऑटो ड्राइवर पर आरोप लगाया था कि उसे उसके ऑफिस बैग को गाय की खाल का बताकर धमकाया गया था। कश्यप ने हिरासत में पुलिस को बताया कि उसने मुंबई में सांप्रदायिक हिंसा फैलाने के लिए यह झूठी कहानी रची थी। अंग्रेजी अखबार मुंबई मिरर ने कश्यप के बयान के हवाले से लिखा है, ‘मैं हिंदुओं से नफरत करता हूं, इसलिए मैंने यह कहानी बनाई है। मैं स्वीकार करता हूं कि मैंने यह झूठी कहानी खुद रची थी। मेरे साथ ऐसी कोई घटना नहीं हुई थी। मेरी फेसबुक पोस्ट भी फर्जी थी।’

वीडियो में देखें- दादरी बीफ कांड के आरोपी की जेल में मौत

19 अगस्त को पुलिस में दर्ज कराई गई शिकायत में कश्यप ने बताया था कि उसने सुबह 11 बजे ऑफिस के लिए निकलने के लिए घर से एक ऑटो पकड़ा था। रास्ते में ऑटो के ड्राइवर ने मुझसे पूछा कि आपके बैग से बदबू आ रही है क्या यह गाय की चमड़ी का बना हुआ है। मैंने उसे बताया कि नहीं यह ऊंट की खाल से बना हुआ है। उसके बाद भी उसने एक जगह ऑटो रोका और फिर तीन लोगों को साथ लेकर वापस आया, जिन्होंने उसे धमकाना शुरू कर दिया। इसके बाद उन लोगों ने कश्यप से कहा कि आज तो बच गए हो। कश्यप ने इस घटना से संबंधित पोस्ट फेसबुक पर भी डाली थी। इसके बाद सरकार पर कार्रवाई करने को लेकर दबाव बना था। राज्य के सीएम ने भी आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की बात कही थी।

Read Also: बॉलीवुड के इस सेलीब्रिटी ने घर में पाल रखी हैं 70 गाय, कभी नहीं खाते बाहर का खाना

जब पुलिस ने कश्यप के आरोपों की जांच शुरू की तो पता लगा कि वे ऑफिस के लिए 11 बजे नहीं बल्कि एक बजे निकले थे। इसके साथ ही उन्हें ऑफिस पहुंचने में मात्र 9 मिनट लगे थे। पुलिस ने बताया कि उन्होंने पूरे रास्ते में लगे हुए सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले। जिसमें दिख रहा है कि ऑटो एक मिनट के लिए भी कहीं नहीं रुका। जिसके बाद पुलिस को कश्यप पर शक हुआ और उसके खिलाफ मामला दर्ज किया गया।

Read Also: मुस्लिम लड़के की पुलिस हिरासत में मौत, व्हाट्सअप पर बीफ पर किया था ‘आपत्तिजनक’ कमेंट

पुलिस इस मामले में राजनीतिक साजिश भी टटोलने की कोशिश कर रही है। पुलिस के मुताबिक जब बरुण के खिलाफ मामला दर्ज हुआ तो उन्होंने आम आदमी पार्टी की नेता प्रीति शर्मा से संपर्क किया। इसके बाद वे दो दिनों तक शर्मा के घर पर रुके थे। पुलिस अब इस मामले में राजनीतिक पहलू की जांच कर रही है। 4 अक्टूब को गिरफ्तार किए गए बरुण अभी आर्थर रोड़ जेल में हैं। उनके खिलाफ पुलिस जल्द ही चार्जशीट दाखिल करने वाली है।

Read Also: बीफ पर बवाल मचाने वालों पर भड़के मार्कण्‍डेय काटजू, कहा- सामने आओ, डंडे से ऐसा पीटूंगा कि भूलोगे नहीं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.