पूर्वांचल एक्सप्रेस पर उतरा फाइटर प्लेन, BJP ने कर दी अमेरिका इंग्लैंड की सड़कों से तुलना, सोशल मीडिया पर कुछ यूं आने लगे रिएक्शन

भारतीय वायु सेना का लडाकू विमान रविवार को सुल्तानपुर में पूर्वांचल एक्सप्रेसवे पर उतरा तो उत्तर प्रदेश की राजनीति में गर्माहट महसूस की जाने लगी।

भारतीय वायु सेना फाइटर प्लेन पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर उतारा गया। Photo Source- ANI

भारतीय वायु सेना का लडाकू विमान रविवार को सुल्तानपुर में पूर्वांचल एक्सप्रेसवे पर उतरा तो उत्तर प्रदेश की राजनीति में गर्माहट महसूस की जाने लगी। बीजेपी जहां इसे अपनी सफलता बताने से नहीं चूक रही है तो वहीं विपक्ष इसे चुनावी हथकंडा करार दे रहा है। सुल्तानपुर में सैन्य अभ्यास करते हुए फाइटर प्लेन का एक वीडियो भी सामने आया है। बताते चलें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 नवंबर को इस पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शुभारंभ करेंगे।

राजनीतिक लिहाज से बीजेपी के लिए यह अहम कदम होगा, समाजवादी पार्टी के मुखिया और सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कार्यकाल के दौरान आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फाइटर प्लेन उतारा गया था। पिछले चुनावों से लेकर इन चुनावों के आगाज तक समाजवादी पार्टी बीजेपी को इस मुद्दे पर घेरती रही कि क्या योगी शासन में कोई ऐसी सड़क बनी जिस पर फाइटर प्लेन उतारा जा सके। माना जा रहा है सीएम योगी ने आगरा यमुना एक्सप्रेस वे का जवाब पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से दिया है।

बीजेपी उत्तर प्रदेश के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर भी इस सड़क की कुछ तस्वीरें साझा की गई हैं। इन तस्वीरों के साथ पार्टी ने लिखा कि यह अमेरिका या इंग्लैंड की रोड नहीं उत्तर प्रदेश का ‘पूर्वांचल एक्सप्रेसवे’ है। सोच ईमानदार, काम दमदार, फिर एक बार भाजपा सरकार। बीजेपी की इस क्रिया पर सोशल मीडिया यूजर्स की प्रतिक्रिया देखने को मिली। सुशील सिंह बोरा (@SunilSinghBora) नाम के यूजर ने फोटो में नजर आ रहे आसमान पर सवाल उठाते हुए कहा कि कम से कम सभी फोटो के बादल तो बदल लेते। तो वहीं मनीष सिंह (@Manishen1025) नाम के यूजर ने किसी जिले की कई खराब सड़कों से संबंधित खबर की पेपर कटिंग को साझा किया और तंजात्मक लहजे में लिखा ये भी अमेरिका की नहीं उत्तर प्रदेश की रोड है।

इसके अलावा जो वीडियो चर्चा का विषय बना हुआ है। उस पर भी लोगों की प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। जेम्स (@dsajames11) नाम के यूजर ने इसे चुनाव से पहले बड़ा पैतरा करार दिया तो वहीं अभिषेक चौधरी (@abhishekch01) नाम के यूजर ने लिखा, मोदी और योगी तो कुछ भी मुमकिन है।

बताते चलें 354 किलोमीटर लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को बनाने का काम पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी की अखिलेश यादव सरकार ने शुरू किया था लेकिन बीजेपी सरकार ने इस में अनियमितताओं का अंदेशा जताते हुए सभी कंपनिय़ों के ठेके रद्द कर दिए थे और नया प्रस्ताव पास कर नए सिरे से ठेके दिए गए थे। पूर्वांचल एक्सप्रेस यूपी के गाजीपुर से प्रदेश की राजधानी लखनऊ को जोड़ने वाला सड़कमार्ग है।

Also Read
योगी आदित्यनाथ के काम आएगा गंगा, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे? यूपी में यह है सरकार बनाने का असली गणित

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की लागत 42 हजार करोड़ रुपये मानी जा रही है। इस परियोजना से लखनऊ और गाजीपुर के बीच की दूरी पांच घंटे कम का दावा किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार 16 नवंबर को इसे जनता को सौंपेंगे।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट