कभी पत्थर मार आतंकी को कर दिया था ढेर, अब बेटे की एनकाउंटर में मौत, कहा- मेरा बेटा आतंकवादी नहीं था

महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि यहां विरोध प्रदर्शन इसलिए किया जा रहा है क्योंकि सरकार आतंकी का नाम बताकर मासूम लोगों को मार रही है। उन्होंने कहा कि पुलिस ने मारे गए लोगों का शव भी परिजनों को नहीं सौंपा है।

महबूबा मुफ्ती बोलीं- आतंकी का नाम दे मासूम लोगों को मार रही सरकार। फोटो- एएनआई

श्रीनगर के हैदरपोरा इलाके में मुठभेड़ के दौरान कथित तौर पर चार आतंकियों को मार गिराया गया था। हालांकि महबूबा मुफ्ती ने इस एनकाउंटर पर सवाल उठाए हैं। उनका कहना है कि इस एनकाउंटर में तीन नागरिक मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि यह कैसा एनकाउंटर है जिसमें एक आतंकी मारा जाए और तीन आम लोगों की हत्या कर दी जाए। उन्होंने इसके खिलाफ न्यायिक जांच की मांग की है।

वहीं इस एनकाउंटर में मारे गए अमीर मांगरे के पिता अब्दुल लतीफ का कहना है कि उनका बेटा बेगुनाह था। वह आतंकी नहीं था और श्रीनगर में एक दुकान पर काम करता था। बता दें कि रामबन के रहने वाले अब्दुल लतीफ भी एक बार चर्चा में आए थे। साल 2005 में उन्होंने एक आतंकवादी को पत्थऱ से मार डाला था। इसके बाद उन्हें सेना की तरफ से सम्मानित किया गया था और एक प्रशस्ति पत्र भी दिया गया था।

पुलिस का कहना है कि अमीर आतंकवादियों की मदद करता था और उसे श्रीनगर के एक कमर्शल कॉम्प्लेक्स में मार दिया गया।

अब्दुल लतीफ ने कहा, ‘मैंने खुद अपने हाथों से एक आतंकी को मार दिया था। मैं आतंकियों की गोलियां खा चुका हूं। मेरे चचेरे भाई को भी आतंकवादियों ने मार दिया था। मुझे 11 साल पहले अपना घर छोड़ना पड़ गया। मैंने अपने बच्चों को बहुत मुश्किल से पाल-पोसकर बड़ा किया। मैं उन्हें आतंकियों से छिपाकर रखता था। आज मेरे त्याग का यह परिणाम मिला है कि कि जिसने एक आतंकी को मार गिराया उसी के बेटे को आतंकवादी बताया जा रहा है।’

मांगरे ने कहा कि पुलिस उनके बेटे का शव देने को भी तैयार नहीं है। घऱ के आसपास पुलिस तैनात है। कल को ये लोग मुझे भी मार सकते हैं और फिर कह देंगे कि मैं भी आतंकवादी था। बता दें कि इस एनकाउंटर में कमर्शल कॉम्प्लेक्स का मालिक भी मार दिया गया था। इसके बाद से इसे लेकर विवाद हो रहा है।

पहले पुलिस ने कहा था कि मोहम्मद अल्ताफ भट औऱ डॉ. मुदासिर गुल को आतंकवादियों ने मार दिया। बाद में पुलिस ने बयान बदल दिया और कहा कि हो सकता है वे क्रॉसफायरिंग में मारे गए हों। मारे गए लोगों के परिवार वालों का कहना हैकि सुरक्षाबलों ने उन्हें मार डाला। पुलिस का कहना है कि लॉ ऐंड ऑर्डर को देखते हुए तीनों शवों को 100 किलोमीटर दूर हंदवाड़ा में दफना दिया गया।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
योगी आदित्यनाथ और भाजपा प्रत्याशी समेत अनेक लोगों पर मुकदमा
अपडेट