ताज़ा खबर
 

फारुख अब्दुल्ला बोले- 370 की तरह कश्मीर का भारत में विलय भी अस्थाई, जनमत संग्रह बड़ी शर्त

अब्दुल्ला ने आगे कहा कि उस समय कहा गया था कि आगे जनमत संग्रह होगा और यह फैसला जनता का होगी कि वह भारत के साथ जाना चाहती है या पाकिस्तान के साथ। जब ऐसा नहीं हुए तो फिर धारा 370 को कैसे हटाया जा सकता है?

Author नई दिल्ली | July 1, 2019 10:19 PM
जम्मू कश्मीर के पूर्व नेता और नेश्नल कॉन्फ्रेंस के नेता धारा 370 को लेकर बड़ा बयान दिया है।(फोटो- ANI)

जम्मू कश्मीर के पूर्व नेता और नेश्नल कॉन्फ्रेंस के नेता धारा 370 को लेकर बड़ा बयान दिया है। समाचार एजेंसी एनआई के मुताबिक उन्होंने कहा कि अगर धारा 370 अस्थाई है तो फिर जम्मू कश्मीर का अधिग्रहण भी अस्थाई है और जब महाराजा ने इसे स्वीकार किया था तब भी यह अस्थाई था। अब्दुल्ला ने आगे कहा कि उस समय कहा गया था कि आगे जनमत संग्रह होगा और यह फैसला जनता का होगी कि वह भारत के साथ जाना चाहती है या पाकिस्तान के साथ। जब ऐसा नहीं हुए तो फिर धारा 370 को कैसे हटाया जा सकता है?

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन को 6 महीने के लिए और बढ़ाने के लिए लोकसभा और राज्यसभा में बिल पास हो गया है। साल 2018 के जून में बीजेपी और पीडीपी के गठबंधन टूटने के बाद से वहां राष्ट्रपति शासन लागू है।

लोकसभा में अमित शाह ने कहा कि हम राज्य में राष्ट्रपति शासन राज्य की सुरक्षा की नजर से 6 महीन के लिए बढ़ा रहे हैं। बता दें कि संसद में जम्मू-कश्मीर आरक्षण (संशोधन) बिल 2019 (Jammu and Kashmir Reservation Amendment Bill, 2019) पेश किया गया। इन दोनों बिल पर समाजवादी पार्टी, तृणमूल कांग्रेस और बीजू जनता दल ने भी समर्थन का एलान किया है। इस दौरान अमित शाह ने कहा कि मैं फिर दोहराना चाहता हूं कि नरेन्द्र मोदी सरकार की आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति है। जम्हूरियत सिर्फ परिवार वालों के लिए ही सीमित नहीं रहनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 गुरदासपुर के लिए सनी देओल ने नियुक्त किया प्रतिनिधि, कांग्रेस बोली- वोटरों के साथ धोखा
2 गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी विधायक को बम से उड़ाने की धमकी
3 संसद से J&K में राष्ट्रपति शासन के विस्तार को मंजूरी, अमित शाह बोले- आतंकवाद नहीं करेंगे बर्दाश्त; पं.नेहरू पर भी बरसे