ताज़ा खबर
 

J&K: 43 करोड़ की हेराफेरी केस में फारूख अब्दुल्ला से ED की पूछताछ, बोले- ये ‘प्रतिशोध की राजनीति’

'जम्मू कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन' (जेकेसीए) में कथित अनियमितताओं से जुड़े एक मामले में नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ईडी के समक्ष पेश हुए हैं। ईडी की टीम श्रीनगर स्थित अपने कार्यालय में पूर्व सीएम से पूछताछ कर रही है।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: October 19, 2020 2:19 PM
Farooq Abdullah,Enforcement Directorate,Article 370,Gupkar declaration,Jammu and Kashmir Cricketजम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला। (file)

जम्मू कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन में कथित अनियमितताओं से जुड़े एक मामले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला प्रवर्तन निदेशालय (ED) के समक्ष पेश हुये। ईडी की टीम श्रीनगर स्थित अपने कार्यालय में पूर्व सीएम से पूछताछ कर रही है। इस मामले में पहले भी उन्हें ईडी ने तलब किया था।

अधिकारियों ने कहा कि पहले की तरह धनशोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत नेशनल कान्फ्रेंस के अध्यक्ष अब्दुल्ला का बयान दर्ज किया जाएगा। ईडी ने सीबीआई की प्राथमिकी के आधार पर यह मामला दर्ज किया है। सीबीआई ने जेकेसीए के महासचिव मोहम्मद सलीम खान और पूर्व कोषाध्यक्ष एहसान अहमद मिर्जा समेत कई पदाधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

जम्मू कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन को भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (BCCI) ने 2002 से 2011 के बीच क्रिकेट सुविधाओं के विकास के लिए 112 करोड़ रुपये दिए जेकेसीए को दिये गए अनुदान में से 43.69 करोड़ रुपये के गबन के मामले में जेकेसीए अध्यक्ष डॉ. फारूक अब्दुल्ला, मोहम्मद सलीम खान (महासचिव), एहसान अहमद मिर्जा (खजांची) और बशीर अहमद मिसगर (बैंक में एग्जीक्यूटिव) के खिलाफ  षड्यंत्र और विश्वास के आपराधिक उल्लंघन के आरोप लगाते हुए अदालत में चार्जशीट दायर की थी।

ईडी ने कहा कि उसकी जांच में सामने आया है कि जेकेसीए को वित्त वर्षों 2005-2006 और 2011-2012 (दिसंबर 2011 तक) के दौरान तीन अलग-अलग बैंक खातों के जरिये बीसीसीआई से 94.06 करोड़ रुपये मिले। सीबीआई ने करीब 8 हज़ार पन्नों की चार्जशीट बनाई है। इसमें आरोपियों के खिलाफ धारा 120-बी, 406 और 409 के तहत आरोप लगाए गए हैं।

ईडी की पूछताछ को लेकर फारूक अब्दुल्ला के बेटे और पूर्व मुख्य मंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर कहा, नेशनल कॉन्फ्रेंस शीघ्र ही ईडी समन को लेकर जवाब देगी। यह गुपकार समझौते के लिए हुए अलायंस के गठन को लेकर राजनीतिक प्रतिशोध के लिए की जा रही है। बताना चाहता हूं कि डॉ साहब के आवास पर छापा नहीं मारा जा रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 फंड लेकर डकार लेने वाले 130 NGOs को काली सूची में डालेगी सरकार, 700 संगठनों के सर्वे के बाद कार्रवाई!
2 बलिया गोलीकांडः न दें दखल- ‘बड़बोले’ MLA सुरेंद्र सिंह को BJP चीफ जेपी नड्डा ने चेताया, भिजवाएंगे शो कॉज नोटिस
3 दुनिया भर में कोरोना का कहर जारी, संक्रमितों की कुल संख्या चार करोड़ के पार
यह पढ़ा क्या?
X