ताज़ा खबर
 

किसान की मौत पर छिड़ी राजनीतिक जंग

दिल्ली में कल एक किसान की खुदकुशी समेत पूरे देश में किसानों की आत्महत्या के मुद्दे पर लोकसभा में प्रश्नकाल स्थगित करके चर्चा कराने को लेकर विपक्ष के भारी हंगामे के कारण सदन...

राजनाथ सिंह ने लोकसभा में चर्चा के दौरान कहा- भीड़ ताली बजा रही थी। पुलिस ने उनसे नारे लगाना बंद करने को कहा।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की रैली में बुधवार को एक किसान की खुदकुशी को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर तेज हो गया है। लोकसभा में इस मुद्दे पर शोरशराबे से क्षुब्ध अध्यत्र सुमित्रा महाजन ने कहा कि किसी को किसानों के सरोकार से कोई मतलब नहीं है। सभी अपनी राजनीति कर रहे हैं। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आत्महत्या करने की किसान की मंशा की भनक के बावजूद आप समर्थकों के ताली बजाने और नारे लगाने को लेकर पार्टी की आलोचना की। उधर, आप ने पलटवार करते हुए कहा कि गृहमंत्री झूठ बोल रहे हैं। भूमि अधिग्रहण अध्यादेश को लेकर भाजपा नीत राजग सरकार के खिलाफ कांग्रेस के आक्रामक रवैए के बीच पार्टी ने घटना की न्यायिक जांच की मांग की है।

राजनाथ सिंह ने लोकसभा में चर्चा के दौरान कहा- भीड़ ताली बजा रही थी। पुलिस ने उनसे नारे लगाना बंद करने को कहा। आम तौर पर ऐसे मामलों में (जब कोई व्यक्ति जान देने पर आमादा हो तो) ऐसे लोगों को बातों में लगाकर रखा जाता है ताकि उनका मन बदल जाए लेकिन यहां भीड़ तालियां बजा रही थी और नारे लगा रही थी। मंत्री ने दिल्ली पुलिस का बचाव किया, जिस पर इस दुखद घटना को रोकने के लिए कुछ भी नहीं करने के आरोप लग रहे हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस ने नियंत्रण कक्ष को फोन कर स्थिति से निपटने के लिए त्वरित कदम उठाए और गजेंद्र सिंह को पेड़ से नीचे उतारने के लिए अग्निशमन विभाग से सहयोग मांगा।

राजस्थान के दौसा के 41 वर्षीय किसान ने भूमि अध्यादेश के विरोध में आप की रैली के दौरान पेड़ से लटककर खुदकुशी कर ली थी। पेड़ पर चढ़ने के बाद नीचे गिराए पर्चे में गजेंद्र ने लिखा था कि फसल बर्बाद होने के बाद उसके पिता ने उसे घर से निकाल दिया।

गजेंद्र की आत्महत्या के बावजूद आम आदमी पार्टी के शीर्ष नेताओं के भाषण जारी रखकर अत्यंत संवेदनहीनता दिखाने के लिए आलोचना का सामना कर रही आप ने आरोप लगाया कि राजनाथ सिंह झूठ बोल रहे हैं। आप प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि गृह मंत्री झूठ बोल रहे हैं और भ्रामक बयान दे रहे हैं। केंद्र सरकार दिल्ली पुलिस का इस्तेमाल कर आप को निशाना बनाने का षड्यंत्र कर रही है। मीडिया ने घटना को रेकॉर्ड किया और सच्चाई सामने लाने के लिए उसे टेप जारी करना चाहिए। आप के नेता कुमार विश्वास ने कहा कि आपने देखा होगा कि उसे बचाने के लिए हम पुलिस से आग्रह कर रहे थे। कृपया सच्चाई दिखाइए कि क्या हमने किसी को उकसाया। कम से कम सदन में तो सच बोलिए।

बहरहाल नेताओं ने इन सवालों का जवाब नहीं दिया कि क्या किसान को उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रैली में आमंत्रित किया था।
राजनाथ ने सदन में कहा कि दिल्ली पुलिस ने उन्हें बताया है कि किसान के पेड़ पर चढ़ने के बाद पुलिस ने नियंत्रण कक्ष को तुरंत जानकारी दी और ऊंची सीढ़ी वाले दमकल को भेजने को कहा। सदन में गृह मंत्री ने कहा कि आप की रैली में इकट्ठा हुए लोग पेड़ पर चढेÞ किसान की ओर देखकर ताली बजा रहे थे और नारे लगा रहे थे।

पुलिस ने उन्हें ऐसा न करने का अनुरोध करते हुए कहा कि उससे वह व्यक्ति और उत्तेजित हो सकता है लेकिन भीड़ ने शोर मचाना और ताली बजाना जारी रखा। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा से समयबद्ध तरीके से मामले की जांच करने का आदेश दिया गया है।

इस पर सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने आपत्ति जताते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस किसान की आत्महत्या के मामले में दोषी है और उसी से मामले की जांच कराना उचित नहीं होगा। उन्होंने प्रधानमंत्री से मुखातिब होते हुए कहा कि मामले की न्यायिक जांच का आदेश दिया जाए। किसानों की कर्ज माफी की कांग्रेस की मांग पर गृह मंत्री ने पलटवार करते हुए कहा कि यूपीए के समय कर्ज माफी चुनाव के समय की गई थी, न कि किसी आपदा के समय। गृह मंत्री ने यह भी कहा कि इसके अलावा नियंत्रक व महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट में उस समय कर्ज माफी के मामले में घोटाले उजागर हुए हैं।

लोकसभा में इससे पहले विपक्षी सदस्य प्रश्नकाल स्थगित करके तत्काल चर्चा कराने की मांग पर अड़े रहे। वामदलों ने सदन से वाकआउट किया जबकि कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, जद (एकी), सपा, राकांपा सदस्य आध्यक्ष के आसन के समीप आकर नारेबाजी करने लगे। अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने इस पर कहा कि यह गंभीर मामला है, कृपया इसका राजनीतिकरण नहीं करें और 12 बजे इस विषय पर अपनी बात रखें। वह सभी दलों को मौका देंगी। विपक्ष के शोर शराबे से क्षुब्ध लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि किसी को किसानों के सरोकार से कोई मतलब नहीं है। सभी अपनी राजनीति कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App