ताज़ा खबर
 

ट्रैक्टर परेड में मौत: पुलिस बोली- लगता है हादसे में गई जान, किसान बोले- आंसू गैस का गोला बना मौत का कारण, परिवार था अंजान

मंगलवार को मारे गए 27 वर्षीय नव्रीत सिंह हालही में ऑस्ट्रेलिया से लौटे थे, जहां वह पढ़ाई कर रहे थे। अधिकारियों ने कहा कि उनके परिवार को इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि वे राजधानी में मौजूद हैं और आंदोलन का हिस्सा थे।

Author नई दिल्ली | Updated: January 27, 2021 9:35 AM
Farmers protests, Farmers, Farm Laws, Republic Day, Red Fort, yogendra yadav, Farm Laws,

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर किसानों की ओर से निकाली गई ट्रैक्टर रैली के दौरान हादसे में एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई। मंगलवार को मारे गए 27 वर्षीय नव्रीत सिंह हाल ही में ऑस्ट्रेलिया से लौटे थे, जहां वह पढ़ाई कर रहे थे। अधिकारियों ने कहा कि उनके परिवार को इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि वे राजधानी में मौजूद हैं और आंदोलन का हिस्सा थे।

अधिकारियों ने बताया कि रामपुर के बिलासपुर क्षेत्र से कई किसान विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेने के दिल्ली आए थे। तीन दिन पहले डिबडिबा गांव का निवासी नव्रीत भी इन लोगों के साथ यहां आ गया। नव्रीत की मौत प्रदर्शन के दौरान आईटीओ में ट्रैक्टर पलटने से हुई है। दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “कुछ किसान तेज ट्रैक्टर चलाकर हमें मारने की कोशिश कर रहे थे। हमने ट्रैक्टर को बैरिकेड से टकराते हुए देखा। जिसके बाद हमारे कर्मी उसे बचाने गए। लेकिन उत्तेजित किसानों के एक समूह ने उन्हें रोक दिया… ऐसा माना जा रहा है कि उनकी मौत दुर्घटना के कारण हुई है।”

नव्रीत की मौत के बाद कुछ किसान वहां शव के साथ धरने पर बैठ गए और पुलिस को पोस्टमॉर्टम के लिए शव देने से माना कर दिया। उनका कहना है पुलिस ने गोली मारी है। बिलासपुर के किसान मणिदेव चतुर्वेदी ने पुलिस की बातों का खंडन किया है। चतुर्वेदी ने कहा “पुलिस ने नव्रीत पर आंसू गैस का गोला दागा था। गोले की एक शैल उसके सर पर जा लगी और उसने स्टीयरिंग व्हील पर नियंत्रण खो दिया। पुलिस ने भी उसकी कोई मदद नहीं की।”

पुलिस ने कहा कि आईटीओ में किसानों का बड़ा समूह गाजीपुर और सिंघू सीमा से आया था और नई दिल्ली की ओर जाने की कोशिश कर रहा था। अधिकारियों ने दावा किया कि जब उन्हें रोका गया, तो एक समूह हिंसक हो गया और बैरिकेड्स को तोड़ दिया, लोहे की ग्रिल और डिवाइडर को क्षतिग्रस्त कर दिया और पुलिसकर्मियों के ऊपर ट्रैक्टर चढ़ाने की कोशिश की।

किसानों की ट्रैक्टर परेड LIVE

नव्रीत की शादी दो साल पहले हुई थी और उसकी पत्नी भी ऑस्ट्रेलिया में छात्र है। एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “नव्रीत के पिता साहब सिंह ने हमें बताया कि दिल्ली में विरोध प्रदर्शन का हिस्सा रहे स्थानीय किसानों ने उन्हें सूचित किया था कि उनके बेटे की मृत्यु हो गई है।”

एक अधिकारी ने कहा, “परिवार ने हमें बताया कि उन्हें नहीं पता कि नव्रीत दिल्ली में था और किसानों के साथ विरोध कर रहा था। उन्होंने कहा कि नवप्रीत बाजपुर (उधम सिंह नगर जिले, उत्तराखंड) में एक रिश्तेदार से मिलने के लिए गया था।

Next Stories
1 मार्ग अवरुद्ध करने के लिए पुलिस ने लिए मालवाहक चालकों के ट्रक, सड़क पर खड़े ट्रकों पर उतरा किसानों का गुस्सा
2 ‘अगर कृषि कानून पर किसान नेता हमारे साथ समझौता कर लें, पर आंदोलनकारी उनकी बात न मानें?’, हिंसक प्रदर्शनों के मुद्दे को ऐसे उठाएगी सरकार
3 परेड से एक रात पहले दीप सिद्धू और कुछ असामाजिक तत्वों ने लोगों को भड़काया, स्टेज पर कब्जा कर तय रूट का किया था विरोध
ये पढ़ा क्या?
X