ताज़ा खबर
 

पंजाबः कृषि बिल का विरोध कर रहे किसान, बहस में कूदीं कंगना रनौत ने बता दिया ‘आतंकी’

राज्यसभा में बिल के पास होने के बाद पीएम मोदी ने अंग्रेजी, हिंदी और पंजाबी में किसानों को संबोधित करते हुए चार ट्वीट किये थे।

कंगना रनौत ने कृषि बिल का समर्थन किया है।

पंजाब, हरियाणा समेत कुछ अन्य जिलों में किसान लगातार मोदी सरकार के नए कृषि बिल का विरोध कर रहे हैं। अब इस विवाद में अभिनेत्री कंगना रनौत भी कूद गई हैं। कंगना रनौत ने एक ट्वीट करते हुए लिखा कि ‘प्रधानमंत्री जी कोई सो रहा हो उसे जगाया जा सकता है, जिसे ग़लतफ़हमी हो उसे समझाया जा सकता है मगर जो सोने की ऐक्टिंग करे, नासमझने की ऐक्टिंग करे उसे आपके समझाने से क्या फ़र्क़ पड़ेगा? ये वही आतंकी हैं CAA से एक भी इंसान की सिटिज़ेन्शिप नहीं गयी मगर इन्होंने ख़ून की नदियाँ बहा दी।’

इससे पहले रविवार को राज्यसभा में यह बिल पास हो गया है। जिसके बाद शाम को अभिनेत्री ने यह ट्वीट किया था। उन्होंने अपने ट्वीट में पीएम मोदी को भी कोट किया था। राज्यसभा में बिल के पास होने के बाद पीएम मोदी ने अंग्रेजी, हिंदी और पंजाबी में किसानों को संबोधित करते हुए चार ट्वीट किये थे।

कंगना रनौत ने इन्हीं में से पीएम के एक हिंदी ट्वीट को कोट करते हुए लिखा था। जिस ट्वीट को कंगना रनौत ने कोट किया था उसमें पीएम मोदी ने लिखा था कि ‘मैं पहले भी कहा चुका हूं और एक बार फिर कहता हूं: MSP की व्यवस्था जारी रहेगी। सरकारी खरीद जारी रहेगी। हम यहां अपने किसानों की सेवा के लिए हैं। हम अन्नदाताओं की सहायता के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे और उनकी आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर जीवन सुनिश्चित करेंगे।’

इससे पहले राज्यसभा में कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक, 2020 और कृषक (सशक्ति’करण और संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक, 2020 ध्व’नि मत से पारित हुए थे। कंगना रनौत ने कृषि बिल का समर्थन किया है।

आपको बता दें कि देश के कई किसान इस बिल का जोरदार विरोध कर रहे हैं। बीजपी की सहयोगी शिरोमणि अकाली दल इस मुद्दे पर मोदी कैबिनेट से खुद को बाहर तक कर चुकी है। इसके अलावा कांग्रेस तथा कुछ अन्य विपक्षी दल लगातार इस बिल को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर हैं।

Next Stories
1 RS में हंगामा: कैमरे का फोकस “चेयर” पर था तो सांसदों ने मोबाइल से रिकॉर्ड कर वायरल की क्लिप
2 हर चार में से तीन कंपनियों को मिल जाएगा कर्मचारियों को किसी भी क्षण निकालने का अधिकार- मोदी सरकार के प्रस्तावित क़ानून से बढ़ी चिंता
3 सांसद ने पूछा- लॉकडाउन में ऑटो सेक्टर में कितनी नौकरियां गईं? सरकार बोली- नहीं पता
ये पढ़ा क्या?
X