ताज़ा खबर
 

जिसकी सरकार है वो हमसे जवाब ले लेगी, आप क्यों उनके वकील बन रहे हो?- अमीष देवगन को राकेश टिकैत ने दिया जवाब

कृषि कानूनों को लेकर किसानों ने गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्टर रैली निकाली जो कई जगहों पर हिंसक भी हो गई। हालांकि किसान नेता राकेश टिकैत का कहना है कि आंदोलन शांतिपूर्ण हो रहे हैं।

Tractor Parade, rakesh Tikaitकिसान नेता राकेश टिकैत । फोटो- पीटीआई

गणतंत्र दिवस के मौके पर किसानों ने ट्रैक्टर रैली निकाली और राजधानी दिल्ली में जमकर हुड़दंग हुआ। किसान समय से पहले ही बैरिकेड्स तोड़कर दिल्ली में दाखिल हो गए। किसान नेता राकेश टिकैत लगातार कहते रहे कि ट्रैक्टर परेड शांतिपूर्ण होंगे लेकिन उनके दावे धरे के धरे रह गए। बता दें कि टीवी डिबेट के दौरान भी राकेश टिकैत अपनी बात पर अड़े रहते थे। एक शो के दौरान उन्होंने ऐंकर अमिश देवगन को कहा कि आप ही वकील बनिए। जिसकी सरकार है वो जवाब ले लेगा, आप क्यों वकील बन रहे हैं?

टिकैत ने कहा, ‘हमारे पास नेता भी हैं और हम बातचीत करने में सक्षम भी हैं। जब सरकार का दिमाग ठीक हो जाए तब बात कर लेना। हमें कोई जल्दी नहीं है। तीन कानून वापस होने चाहिए और एमएसपी पर कानून बनना चाहिए। हम दिल्ली में ही रहेंगे। सीमा पर बैठेंगे। हमारे पास नेता भी हैं और बातचीत भी होगी।’

ऐंकर अमीष देवगन ने पूछा, बताइए एमएसपी को लेकर कब-कब देश में आंदोलन हुए हैं। टिकैत ने कहा, जिन्होंने इसे हटाने की कोशिश की, वे चले गए। आप क्यों सरकार के वकील बन रहे हैं। हमारा बहुत दिन से यह प्रोग्राम चल रहा था। इस बीच विश्लेषक ने कहा, जब तक सारे आंकड़े नहीं आते सही फैसले नहीं लिए जा सकते।

टिकैत ने कहा, मैं चाहता हूं कि सरकार पर एक रुपये का जोर न पड़े। बस आप कानून बना दीजिए। व्यापारी एमएसपी से कम पर खरीद न करें। विश्लेषक ने कहा, अगर व्यापारी नहीं खरीदेगा तो खरीद की जिम्मेदारी किसकी होगी। टिकैत ने कहा, आपकी कोई जिम्मेदारी नहीं है बस आप कानून बना दीजिए। उन्होंने कहा, लुटेरों के बादशाहों मान जाओ, ये सबसे बड़ा लुटेरा साबित होगा। ये जो लुटेरों की सल्तनत चल रही है ना, इसकी कोई जिम्मेदारी नहीं है।

विश्लेषक ने कहा, आप बताइए तो आपके कानून की भाषा क्या होगी। आपके पास बड़े-बड़े वकील हैं। आप बताइए तो कानून में क्या कहा जाएगा। टिकैत ने कहा, हमें नहीं पता था कि जिसको वोट दिया है, वो वकील है इनका। हम लुटेरों के बादशाहों को जानते हैं। विश्लेषक ने कहा, आप अपने ही चक्रव्यूह में फंस गए हैं।

 

Next Stories
1 72वां गणतंत्र दिवसः राजपथ पर दिखा देश का पराक्रम, गरजा राफेल, राम मंदिर की भी दिखी झलक; देखें परेड-झांकी के PHOTOS
2 तय रूट से अलग किसानों का मार्च, तो जमीन पर बैठ गए DP के जवान, बोले- आगे बढ़ना है, तो हमसे गुजरकर जाओ; ITO पर जबरदस्त उत्पात
3 कृषि कानूनः धरे रह गए किसान नेताओं के दावे! पर ट्रैक्टर परेड में पथराव, तोड़फोड़ और ट्रैक्टर दौड़ाने से लेकर तलवार से हमले का हुआ प्रयास
ये पढ़ा क्या?
X