ताज़ा खबर
 

किसान कर रहे ट्रैक्टर रैली का रिहर्सल, सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा- तबलीगी ज़मात के मरकज़ वाला हाल नहीं होना चाहिए

रैली पर चिंता व्यक्त करते हुए मुख्य न्यायधीश एसए बोबड़े ने कहा कि हमें यह नहीं पता कि किसान कोरोना वायरस से सुरक्षित हैं या नहीं है, लेकिन अगर कोरोना नियमों का उचित तरीके से पालन नहीं किया गया तो तबलीगी जमात की तरह की ही दिक्कतें हो सकती हैं।

corona, farmer protest, tabligi jamat, supreme court, BJP, narendra modi, tractor relly, India news, Live News, Latest newsTushar Mehta,Supreme Court,nizamuddin markaz,justices a.s. bopanna,covid-19,covid, jansattafarmers protest: सुप्रीम कोर्ट। (file)

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ राजधानी दिल्ली से सटी सीमाओं पर किसानों का आंदोलन पिछले 42 दिन से जारी है। इसके विरोध में किसान ट्रैक्टर रैली निकाल रहे हैं। इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट ने चिंता व्यक्त की है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से सवाल किया है कि क्या कोरोना नियमों का इस दौरान पालन किया जा रहा है।

रैली पर चिंता व्यक्त करते हुए मुख्य न्यायधीश एसए बोबड़े ने कहा कि हमें यह नहीं पता कि किसान कोरोना वायरस से सुरक्षित हैं या नहीं है, लेकिन अगर कोरोना नियमों का उचित तरीके से पालन नहीं किया गया तो तबलीगी जमात की तरह की ही दिक्कतें हो सकती हैं। न्यायालय ने केन्द्र की ओर से पेश सालिसीटर जनरल तुषार मेहता से जानना चाहा कि क्या विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान कोविड-19 से सुरक्षित हैं। मेहता ने जवाब दिया, ‘‘निश्चित ही ऐसा नहीं है।’’ मेहता ने कहा कि वह दो सप्ताह के भीतर एक रिपोर्ट दाखिल करके बतायेंगे कि क्या किया गया है और क्या करने की जरूरत है।

सरकार से बातचीत से पहले हजारों किसानों ने केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ बृहस्पतिवार को प्रदर्शन स्थल-सिंघू, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर और हरियाणा के रेवासन में ट्रैक्टर रैली निकाली। प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों ने कहा कि 26 जनवरी को हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से राष्ट्रीय राजधानी में आने वाले ट्रैक्टरों की प्रस्तावित परेड से पहले यह महज एक ‘‘रिहर्सल’’ है।

भारतीय किसान यूनियन (एकता उगराहां) के प्रमुख जोगिंदर सिंह उगराहां ने कहा कि 3500 से ज्यादा ट्रैक्टरों और ट्रॉलियों के साथ किसान मार्च में हिस्सा ले रहे हैं। पंजाब के बड़े किसान संगठनों में से एक उगराहां ने कहा कि वह तीन कानूनों को वापस लेने के अलावा किसी बात पर राजी नहीं होंगे। केन्द्र सरकार और किसान संगठनों के बीच शुक्रवार को आठवें दौर की बातचीत होनी है।

प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों और तीन केंद्रीय मंत्रियों के बीच सोमवार को सातवें दौर की बैठक बेनतीजा रही थी क्योंकि किसान तीनों कानूनों को निरस्त करने की अपनी मांग पर डटे हुए हैं। दिल्ली पुलिस और हरियाणा पुलिस के कर्मियों की भारी तैनाती के बीच ट्रैक्टर पर सवार किसानों ने सुबह 11 बजे कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे की ओर मार्च शुरू किया।

अपने ट्रैक्टरों पर बैठे, प्रदर्शन कर रहे किसान अपने प्रदर्शन स्थलों से निकले, वाहनों पर उनका मनोबल बढ़ाने के लिए ‘स्पीकरों’’ में गाने बज रहे थे। उनके अन्य साथी किसान मूंगफली, नाश्ता, चाय, और समाचार पत्रों आदि सामान के साथ रास्तों में खड़े भी दिखे। गाजीपुर से भाकियू नेता राकेश टिकैत की अगुवाई में ट्रैक्टर मार्च पलवल की तरफ बढ़ा है।

संयुक्त किसान मोर्चा के एक वरिष्ठ सदस्य अभिमन्यु कोहाड़ ने कहा, ‘‘आगामी दिनों में हम तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ अपना आंदोलन तेज करेंगे। आज के मार्च में हरियाणा से करीब 2500 ट्रैक्टर आए हैं।’’ उन्होंने, ‘‘हम आगाह करना चाहते हैं कि अगर सरकार हमारी मांगें स्वीकार नहीं करेगी तो किसानों का प्रदर्शन आगे और तेज होगा।’’ सिंघू से टिकरी बॉर्डर, टिकरी से कुंडली, गाजीपुर से पलवल और रेवासन से पलवल की तरफ ट्रैक्टर रैलियां निकाली गयी है।

पंजाब के होशियापुर से ट्रैक्टर रैली में हिस्सा लेने पहुंचे हरजिंदर सिंह ने कहा, ‘‘ सरकार एक के बाद एक बैठक कर रही है। उन्हें पता है हमें क्या चाहिए। हम चाहते हैं कि कानून वापस लिए जाए लेकिन हमें सिर्फ बेकार की बैठकें मिल रही हैं। इस रैली के जरिए, हम 26 जनवरी को क्या करेंगे उसकी महज झलक दिखा रहे हैं।’’

Next Stories
1 83 की उम्र में भी रतन टाटा को है कार चलाने, प्लेन उड़ाने और पढ़ने का शौक, बताया- पियानो बजाने में क्या आई मुश्किल…
2 गोहत्या से आता है भूकंप! कामधेनु आयोग की क्लास में बताई जा रही आइंस्टीन पेन वेव्स की थ्योरी
3 पप्पू यादव से बोले अर्नब, आप कब बन गए किसान? आग भड़काने की करते हैं खेती, मिला जवाब
ये पढ़ा क्या?
X