ताज़ा खबर
 

ट्रैक्टरों को पेट्रोल देना बंद कर दिया, पंपों पर खड़े हैं किसान, राकेश टिकैत बोले- तेल की व्यवस्था नहीं हो पा रही

किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि अब सरकार से बात करने की जरूरत नहीं हैं। कृषि कानूनों पर पूरा बिल वापस होगा, किसान संगठनों का यही अंतिम फैसला है. सरकार को कानून वापस लेना पड़ेगा।

rakesh tikait, farmers protestकिसान नेता राकेश टिकैत। फोटो सोर्स – ANI

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन जारी है। योगेंद्र यादव ने दावा किया है कि 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड के लिए पुलिस से अनुमति मिल गई है। किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि ट्रैक्टर रैली को लेकर तेल की बड़ी समस्या आ रही है। किसान सड़क पर खड़े हैं लेकिन उन्हें तेल नहीं मिल रहा है वो किसी तरह इसकी व्यवस्था कर रहे हैं। राकेश टिकैत ने कहा कि पेट्रोल पंपों पर खड़े किसानों से उन्हें यह जानकारी मिल रही है कि उन्हें पेट्रोल-डीजल नहीं मिल रहा है। राकेश टिकैत ने कहा कि पेट्रोल पंपों पर लिखा गया है कि बोतल में तेल नहीं दिया जाएगा।

किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि अब सरकार से बात करने की जरूरत नहीं हैं। कृषि कानूनों पर पूरा बिल वापस होगा, किसान संगठनों का यही अंतिम फैसला है. सरकार को कानून वापस लेना पड़ेगा। हम आंदोलन का खत्‍म नहीं करेंगे चाहे जितना समय लग जाए। 26 जनवरी को किसान परेड की तैयारी को लेकर राकेश टिकैत ने कहा कि परेड के लिए संगठनों के लोगों ने अलग अलग रूट तय किए हैं, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और दिल्ली पुलिस का पूरा रूट बन गया है, हम उन रुट का पूरा सर्वे करेंगे। उन्‍होंने मीडिया से बातचीत में कहा है कि गाजीपुर बार्डर पर यूपी गेट से दिल्ली में प्रवेश करेंगे, आगे से यू-टर्न लेकर आनंद विहार होते हुए यूपी के बॉर्डर से बाहर निकल जाएंगे।

इधर स्वराज अभियान के योगेंद्र यादव के हवाले से कुछ मीडिया चैनलों ने बताया कि पुलिस से उन लोगों को लिखित में अनुमति मिल गई है। योगेंद्र यादव ने कहा है कि वे लोग (किसान) दिल्ली को नहीं, बल्कि दिल जीतने आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि यह ट्रैक्टर परेड पांच रूट पर निकलेगी।

यादव ने हिंदी समाचार चैनल ABP News को बताया, “किसान दिल्ली नहीं, बल्कि दिल जीतने आ रहे हैं। जहां से शुरू परेड की शुरुआत करेंगे, वहीं पर वापस लौटेंगे। इसे शांतिपूर्ण तरीके से निकाला जाएगा।”परेड में ट्रैक्टरों की संख्या क्या होगी? इस पर यादव ने जवाब दिया- जो हम सोचते हैं, वह कम पड़ जाता है। कम से कम एक लाख ट्रैक्टर आ रहे हैं। अगर एक पंक्ति में खड़ा कर उनके अंदाजे के आंकलन करें, तो यहां (नई दिल्ली) से मुंबई तक ट्रैक्टरों की लाइन आएगी। इसलिए हम पांच जगहों से यह परेड निकालेंगे।

Next Stories
1 महाराष्ट्र: 4300 करोड़ के घोटाले से जुड़े केस में MLA के आवास पर ईडी की रेड, लाखों की नकदी और अहम दस्तावेज बरामद
2 अमेरिका की आधी आबादी के मुताबिक फेल राष्ट्रपति थे डोनाल्ड ट्रंप, फोर्ब्स का सर्वे
3 Google Maps की बेस्ट ट्रिक्स, बिना इंटरनेट ऐसे शेयर करें अपनी लोकेशन
ये पढ़ा क्या?
X