ताज़ा खबर
 

किसानों के समर्थन में आप के सभी विधायक भी करेंगे ट्रैक्टर मार्च

आपको बता दें कि ‘आप’ के पंजाब प्रदेश अध्यक्ष और सांसद भगवंत मान ने कहा था कि आम आदमी पार्टी किसान ट्रैक्टर परेड में राजनीतिक दल के रुप में नहीं, सेवा दल के रुप में शामिल होगी।

FARMERS, PROTESTतस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस- गजेंद्र यादव

किसानों का आंदोलन जारी है। आम आदमी पार्टी ने 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली को समर्थन देने की बात कही है। आम आदमी पार्टी की तरफ से कहा गया है कि पंजाब में पार्टी के सभी विधायक किसानों को समर्थन देने के लिए दिल्ली जाएंगे। पार्टी की तरफ से न्यूज एजेंसी ‘ANI’ से कहा गया है कि पंजाब के सभी विधायक ट्रैक्टर से पंजाब-हरियाणा बॉर्डर के जरिए 25 जनवरी को दिल्ली की तरफ कूच करेंगे।

आपको बता दें कि ‘आप’ के पंजाब प्रदेश अध्यक्ष और सांसद भगवंत मान ने कहा था कि आम आदमी पार्टी किसान ट्रैक्टर परेड में राजनीतिक दल के रुप में नहीं, सेवा दल के रुप में शामिल होगी। मान ने कहा, आजादी के बाद देश में पहली बार ऐसा परेड होगा, जहां एक तरफ दिल्ली के भीतर देश के जवान परेड करेंगे और दूसरी तरफ दिल्ली के बाहरी सडक़ों पर अपने ट्रैक्टरों के साथ देश के किसान ट्रैक्टर परेड करेंगे।

इस ऐतिहासिक अवसर पर आम आदमी पार्टी के हजारों कार्यकर्ता, सभी विधायक और पदाधिकारी किसान ट्रैक्टर परेड में हिस्सा लेंगे और अपने देश के किसान भाईयों के हौसले बुलंद करेंगे। हम इस परेड में नेता के रूप में नहीं, एक सच्चे सेवादार के रूप में भाग लेंगे और धरने पर बैठे अपने किसान भाईयें को हरसंभव मदद करने का प्रयास करेंगे।

बहरहाल आपको बता दें कि तीन कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे किसानों को अब 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड की अनुमति मिल गई है। ट्रैक्टर परेड की अनुमति 3 रूटों पर दी गई है। दिल्ली पुलिस ने इस रैली के लिए किसानों को जो रूट अलॉट किया है उसके मुताबिक ट्रैक्टर रैली टिकरी, सिंघू और गाजीपुर बॉर्डर से दिल्ली में घुसेगी। सिंघू बॉर्डर से ट्रैक्टर रैली कंझावला, बवाना, औचंदी बॉर्डर, केएमपी एक्सप्रेस-वे से गुजरेगी और फिर सिंघू वापस लौट जाएगी। दीपेंद्र पाठक ने बताया कि ट्रैक्टर रैली टिकरी, सिंघू और गाजीपुर बॉर्डर से ट्रैक्टर रैली दिल्ली में घुसेगी। सिंघू बॉर्डर से ट्रैक्टर रैली कंझावला, बवाना, औचंदी बॉर्डर, केएमपी एक्सप्रेस-वे से गुजरेगी और फिर सिंघू वापस लौट जाएगी।

 

Next Stories
1 ‘किसान आंदोलन के पीछे है अदृश्य ताकत’, बोले कृषि मंत्री- यूनियन जब चर्चा कर जाते हैं, तो उनके सुर बदल जाते हैं..
2 असम से अमित शाह ने मांगे और 5 साल, AIUDF चीफ का पलटवार- 3500 मस्जिदें ढहाएगी BJP सरकार
3 LAC विवादः चीन ने तोड़ा सितंबर का इकरारनामा! पूर्वी लद्दाख में चोरी-छिपे PLA की पोजीशंस कर ली मजबूत
ये पढ़ा क्या?
X