ताज़ा खबर
 

बोले राकेश टिकैत: कौन रोकेगा, पुलिस तो ट्रैक्टर को सैल्यूट करेगी; दुनिया की सबसे बड़ी परेड मनेगी

राकेश टिकैत ने आगे कहा कि ये दिल्ली सुन ले कि हम आंदोलन भी करेंगे, बैठक भी करेंगे और धरना भी देंगे।

farmers protest,राकेश टिकैत। फोटो सोर्स- ANI

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि दिल्ली पुलिस किसानों के परेड को लेकर व्यवस्था करे। राकेश टिकैत ने कहा कि ‘किसान दिल्ली आएंगे चमचमाती सड़कों पर ट्रैक्टर चलाएंगे। राकेश टिकैत ने कहा कि हमें यह पता है कि कमेटी क्या रिजल्ट देगी? कमेटी कानून को बढ़िया बताएगी, 10 लोगों के नाम लिखेगी और कानून को बढ़िया बताएगी।’

एक सवाल के जवाब में राकेश टिकैत ने कहा कि ‘ट्रैक्टर मार्च को कौन रोकेगा? पुलिस तो तिरंगा झंडा लेकर सैल्यूट करेगी ट्रैक्टर को। देश को गणतंत्र दिवस मनाने का अधिकार है। किसी के बाप की जागीर है गणतंत्र दिवस। गणतंत्र दिवस हिन्दुस्तान का किसान मनाएगा, दुनिया की सबसे बड़ी परेड मनेगी। किसान आएगा यहां दिल्ली में, कौन रोकेगा किसानों को, अगर किसी ने ट्रैक्टर को रोका तो उसके पर कतर दिये जाएंगे।’

राकेश टिकैत ने आगे कहा कि ये दिल्ली सुन ले कि हम आंदोलन भी करेंगे, बैठक भी करेंगे और धरना भी देंगे। तीन बिल वापसी, एमएसपी पर कानून जब तक नहीं बनेगा किसान वापस नहीं जाएगा। आपको बता दें कि 26 जनवरी को किसानों ने दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालने का ऐलान किया है।

किसानों के आंदोलन को लेकर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई भी हुई। सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों पर चर्चा करने के लिए बनाई गई विशेषज्ञों की समिति के पुनर्गठन की मांग करने वाली याचिका पर आज सरकार से जवाब मांगा है। समिति को लेकर कई दलों ने आपत्ति जताई थी। जिसके बाद उच्चतम न्यायालय ने सख़्त टिप्पणी करते हुए कहा है कि पैनल के लोग योग्य हैं, उन्हें बदनाम न करें।

सीजेआई ने कहा कि अगर हम किसानों के कानूनों को बरकरार रखते हैं तो आप आंदोलन शुरू कर सकते हैं लेकिन शांति बनाए रखनी होगी। वहीं, 8 किसान यूनियनों की ओर से पेश वकील प्रशांत भूषण ने CJI को बताया कि किसान केवल आउटर रिंग रोड पर शांतिपूर्ण तरीके से गणतंत्र दिवस मनाना चाहते हैं। वे शांति भंग नहीं करेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा है कि ट्रैक्टर रैली को लेकर दिल्ली पुलिस फैसला लेगी।

 

Next Stories
1 किसान आंदोलन: कमेटी पर सवाल उठाने वालों पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई नाराजगी, कहा- फैसला सुनाने का अधिकार नहीं तो पक्षपात कैसे?
2 चीन ने फौजी मारे तो हमने ऐप बैन क‍िया, गांव बसाया तो फल का नाम बदला- रूपाणी के ऐलान का यूं उड़ रहा मजाक
3 अर्णव चैट लीक केस में बोले पूर्व रक्षा मंत्री, सैन्य गतिविधियों की ऐसी जानकारी पर मिले दंड
ये पढ़ा क्या?
X