ताज़ा खबर
 

किसान आंदोलन: राजदीप सरदेसाई सहित छह पत्रकारों पर एफ़आईआर, दंगा भड़काने के मकसद से गलत ट्वीट करने का आरोप

एफआईआईर की कॉपी के मुताबिक शिकायतकर्ता ने कहा है कि एक साजिश के तहत सुनियोजित दंगा कराने और लोक सेवकों की हत्या कराने के उद्देश्य से इन लोगों ने राजधानी में हिंसा और दंगे कराए।

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई थरूर और सरदेसाई की गिरफ्तारी पर रोक। फोटो सोर्स- ट्विटर अकाउंट

26 जनवरी को दिल्ली में किसानों के ट्रैक्टर रैली के दौरान जमकर हंगामा हुआ है। अब इस मामले में दंगा भड़काने और करने वालों पर अब कार्रवाई की जा रही है। दंगा भड़काने से मकसद करने ट्वीट करने के आरोप में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर समेत कई पत्रकारों पर केस दर्ज किया गया है। जिन पत्रकारों पर एफआईआर दर्ज की गई है उनमें इंडिया टुडे के न्यूज एंकर राजदीप सरदेसाई, नेशनल हेराल्ड ग्रुप की वरिष्ठ संपादकीय सलाहकार मृणाल पांडेय, कौमी आवाज समाचार पत्र के मुख्य संपादक जफर आगा, कारवां पत्रिका के मुख्य सम्पादक परेशनाथ, कारवा पत्रिका के संपादक अन्नतनाथ, कारवां पत्रिका के कार्यकारी संपादक विनोद के जोस और एक अज्ञात शख्स शामिल हैं।

एफआईआईर की कॉपी के मुताबिक शिकायतकर्ता ने कहा है कि एक साजिश के तहत सुनियोजित दंगा कराने और लोक सेवकों की हत्या कराने के उद्देश्य से इन लोगों ने राजधानी में हिंसा और दंगे कराए।

शिकायतकर्ता का कहना है कि इन लोगों ने जानबूझ कर दुर्भावनापूर्ण, अपमानजनक और गुमराह करने वाले और उकसाने वाली खबर प्रसारित की और अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया। जिसमें कहा गया था कि पुलिस ने एक आंदोलकारी ट्रैक्टर चालक की हत्या कर
दी।इन सभी पर धारा 153 (A), 153B(B), 295(A), 298, 504, 506, 505(2), 124(A) तथा अन्य धाराओं में केस दर्ज किया गया है।

नोएडा के सेक्टर 20 थाने में इन लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है। अभिजीत मिश्रा नाम के एक शख्स की ओर से दी गई शिकायत के आधार पर यह एफआईआर दर्ज की गई है।

बता दें कि भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने आज मीडिया के सामने एक व्यक्ति को थप्पड़ जड़ दिया। इसके बाद वहां मौजूद लोग ‘बीजेपी का है’ कहकर चिल्लाने लगे। बता दें कि केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों को आज पुलिस ने गाजीपुर सीमा पर बंद कर दिया। उत्तर प्रदेश प्रशासन ने गणतंत्र दिवस ट्रैक्टर रैली के दौरान हिंसा की घटना के दो दिन बाद ये कार्रवाई करने का फैसला किया।

Next Stories
1 ‘अरे पप्पू की प्रवक्ता आपके बस का नहीं है’, भाजपा नेता की बात सुन एंकर ने भाषा की मर्यादा रखने के लिए चेताया
2 दिल्ली हिंसा के दो दिन बाद सड़क पर दिखी सख्ती, गाजीपुर बार्डर पर बना तनाव का माहौल
3 VIDEO: राकेश टिकैत ने कैमरे पर युवक को जड़ा थप्पड़, ‘BJP का है’ कह कर चिल्लाने लगे लोग
ये पढ़ा क्या?
X