ये ‘धर्म युद्ध’ है- बोले चढ़ूनी; टिकैत ने कहा- हमारे भरोसे कोई न रहे, किसी को नहीं जिता रहे…मसला सिर्फ फसलों से है

राकेश टिकैत ने कहा, “हमें किसी को हराना जिताना नहीं है। हमारे जो खुद के मसले होंगे, उसपर हम जाएंगे। यूपी में बिजली का रेट सबसे महंगा है, फसलों पर बेईमानी होती है।”

rakesh tikait, aaj tak, rakesh tikait video, rakesh tikait on bjp, rakesh tikait want to win this party, rakesh tikait epic reply to news anchor, rakesh tikait asked by anchor which party you want to win, rajesh tikait age, rakesh tikait on farmer protest, rakesh tikait twitter, aaj tak, aaj tak dangal, राकेश टिकैत, आज तक, राकेश टिकैत का वीडियो, jansatta
बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने कहा यह आंदोलन फसलों और नस्लों को बचाने का आंदोलन है। (express file)

दिल्ली से सटी सीमों पर मोदी सरकार के तीन कृषि क़ानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन पिछले 9 महीने से भी ज्यादा समय से जारी है। इसी बीच भारतीय किसान यूनियन (BKU) के नेता राकेश टिकैत ने ‘न्यूज़ चैनल’ आज तक से बात करते हुए कहा कि यूपी चुनाव में हमें किसी को जितना या हराना नहीं है। हमारा मसला सिर्फ फसलों से है। हमें हमारी कीमत दे दो और कुछ नहीं चाहिए।

राकेश टिकैत ने कहा, “हमें किसी को हराना जिताना नहीं है। हमारे जो खुद के मसले होंगे, उसपर हम जाएंगे। यूपी में बिजली का रेट सबसे महंगा है, फसलों पर बेईमानी होती है।” टिकैत ने आगे कहा, ” हमारे भरोसे कोई न रहे, किसी को नहीं जिता रहे। लोग खुश होंगे तो इसे वोट दे देंगे, लोग खुश होंगे तो दूसरे को वोट दे देंगे। हमारा मसला सिर्फ फसलों से है।”

वहीं टिकैत ने शनिवार को किसानों की एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि किसान आंदोलन फसलों और नस्लों को बचाने का आंदोलन है तथा किसानों पर थोपे गए काले कृषि कानूनों को केंद्र सरकार जब तक वापस नहीं ले लेती है, वह किसानों के सहयोग से दिल्ली की सीमा पर डटे रहेंगे।
   
टिकैत ने कहा कि आंदोलनों में धर्म स्थानों का विशेष योगदान है और गुरु गोविंद सिंह ने भ्रमण के दौरान खाप पंचायतों से संपर्क किया था तथा इसके बाद पीड़ित लोगों से धैर्य रखने को कहा था। उन्होंने बताया कि इसके बाद सिंह ने बंदा सिंह बहादुर को सर नारी गांव भेजा, जहां के लोगों ने फौज बनाकर सरहद का किला फतह किया था।

भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता टिकैत, संत सुखदेव सिंह की 38 वीं बरसी पर यहां आये थे और उनकी (संत सुखदेव सिंह की) समाधि स्थल पर जाकर श्रद्धा सुमन अर्पित किये। उन्होंने कहा, ”आज भी कारपोरेट घरानों और केंद्र सरकार की सांठगांठ से किसानों व मजदूरों के हकों पर डाका डाला जा रहा है, ऐसे में फिर से समय आ गया है कि साधु संतों के सानिध्य में खाप पंचायतों से निकले किसान योद्धा सरकार की जड़ें हिला कर रख दें। वहीं, जब तक काला कानून वापस नहीं ले लिया जाता है, किसान दिल्ली की सीमाओं पर ही डटे रहेंगे।”


   
सभा को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन (चढूनी गुट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसान आंदोलन को ‘‘धर्म युद्ध’’ करार दिया। उन्होंने कहा कि यह धर्मयुद्ध किसानों के हकों के लिए लड़ा जा रहा है, जबकि सरकार की मंशा भारत के किसान-मजदूरों को गुलाम बनाने की है, जो किसी भी दशा में पूरी नहीं होने दी जाएगी। सभा में करीब आधा दर्जन किसान यूनियन के नेताओं ने किसानों से आह्वान कि उनके बुलाने पर वे दिल्ली कूच करें और इस पर किसानों ने हाथ उठाकर सहमति भी प्रदान की।

(भाषा इनपुट के साथ)

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट