ताज़ा खबर
 

‘किसानों के पास जमीन नहीं आय दोगुनी कैसे करेंगे?’ Republic TV पर डिबेट में सांसद ने सुधांशु त्रिवेदी से पूछा सवाल…

हनुमान बेनीवाल ने कहा कि 'धन्ना सेठों का कर्ज इस देश में 15 साल में 3 लाख करोड़ माफ हुआ है। दोनों सरकारों के समय। किसान के कर्ज माफी की बात कोई नहीं करता..हवा में जरुर बोती हैं बातें। आप प्रधानमंत्री जी को कहिए कि वो बड़ा मन रखें।'

FARMERS, PROTESTसांसद हनुमान बेनीवाल। फाइल फोटो। फोटो सोर्स – ट्विटर, @hanumanbeniwal

किसानों का आंदोलन जारी है। इसी विषय पर ‘Republic TV’ पर चल रहे एक डिबेट शो के दौरान राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के अध्यक्ष हनुमान बेनीवाल ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी से पूछा कि सरकार किसानों की आय दोगुनी कैसे करेगी? शो के दौरान सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा कि ‘सुधांशु जी, जब दस कमियां सरकार मान चुकी है तो इतनी जिद क्यों कर रही है? आप एक बार सस्पेंड (कृषि बिल) कर दो थोड़े समय के लिए ताकि किसानों को लगे कि उनकी बात रह गई। एमएसपी की लिखित गांरटी दो। कैसे दोगुनी आय करेंगे आप बताइए? आप कह रहे हैं कि आय दोगुनी कर देंगे, किसानों के पास जमीन बची नहीं है। एक्सप्रेस-वे के नाम पर कंपनियों ने जगह-जगह लैंड मार्क बना दिये, कितनी उपजाऊ जमीन आप किसानों की ले चुके हैं उनकी आय दोगुनी कहां से करेंगे? किसानों के पास जमीन नहीं बची है और ऐसे में अगर इस तरह के कानून लेकर आएंगे तो बचे किसानों के पास भी आत्महत्या के अलावा कोई रास्ता नहीं रहेगा।

धन्ना सेठों का कर्ज इस देश में 15 साल में 3 लाख करोड़ माफ हुआ है, दोनों सरकारों के समय। किसान के कर्ज माफी की बात कोई नहीं करता..हवा में जरुर होती हैं बातें। आप प्रधानमंत्री जी को कहिए कि वो बड़ा मन रखें। किसानों को मनाएं, दो बार इन्होंने मोदी जी को प्रधानमंत्री बनाया, इनको नाराज नहीं करें। देश का किसान आंदोलित है। यहां माइनस 1 डिग्री तापमान है, सारा टेंट भींग गया, सारा राशन भींग गया, लोग अड़े हुए हैं। आप जिद छोड़िए और किसान संगठनों की बात मानिए, कोई रास्ता निकालिए इस आंदोलन को समाप्त करने के लिए।’

बता दें कि सोमवार (04-01-2021) को किसान और सरकार के बीच हुई बातचीत बेनतीजा रही। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि हमारी मांगों पर चर्चा हुई जिसमें कि तीन कानूनों को निरस्त किया जाना शामिल था… कानून वपसी नहीं तो घर वापसी नहीं।

मीटिंग के बाद अखिल भारतीय किसान सभा के हन्नान मोल्लाह ने कहा कि सरकार काफी दबाव में है। हम सभी ने कहा कि यह हमारी मांग है (कानूनों को निरस्त करना)। हम कानूनों को निरस्त करने के अलावा किसी अन्य विषय पर चर्चा नहीं चाहते हैं। कानूनों को निरस्त करने तक विरोध वापस नहीं लिया जाएगा।

Next Stories
1 कांग्रेस प्रवक्ता से BJP नेता शहनवाज हुसैन ने पूछा- ‘फूड प्रोसेसिंग दुबेजी आपको पता है क्या?’
2 किसान आंदोलन: कृषि मंत्री से बोले किसान- आप अपना खाइए, हम अपना खाएंगे, प‍िछली बैठक में साथ खाया था
3 वैक्सीन पर एक्सपर्ट भी सवाल उठा रहे हैं, एंकर ने कहा तो बोले स्वामी रामदेव – बकवास पर ध्यान ना दें
ये पढ़ा क्या?
X