ताज़ा खबर
 

कृषि बिल पर बगावतः हरसिमरत कौर ने छोड़ा मंत्री पद, हरियाणा में BJP के घटक दल JJP पर भी बढ़ा दवाब

इसी बीच, दीपेंदर सिंह हुड्डा ने भी कहा- पंजाब के अकाली दल, AAP ने संसद में कांग्रेस के साथ किसान विरोधी 3 अध्यादेशों का विरोध करने का साहस दिखाया। पर दुर्भाग्य कि हरियाणा के BJP-JJP नेता सत्ता-सुख के लिए किसान से विश्वासघात करने लगे हुए हैं।

Author Edited By अभिषेक गुप्ता नई दिल्ली | Updated: September 18, 2020 12:25 PM
Haryana, JJP, Dushyant ChautalaJJP के दुष्यंत चौटाला हरियाणा के उप-मुख्यमंत्री है। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

कृषि बिल को लेकर Akali Dal की इकलौती केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के मंत्री पद छोड़ने के बाद हरियाणा में BJP के घटक दल Jannayak Janata Party (JJP) पर भी दबाव बढ़ गया है। सूबे के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला (JJP सर्वेसर्वा) शुक्रवार सुबह मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मिले। बाद में उन्होंने पूरे मसले पर अपने दल के शीर्ष नेताओं से बातचीत भी की। 90 विस सीटों वाले हरियाणा में JJP के 10 विधायक हैं, जिन्होंने बीजेपी को सत्ता में आने में मदद की थी।

बादल के इस्तीफ के कुछ ही देर बाद Congress की ओर से रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर निशाना साधा था- दुष्यंत चौटाला, हरसिमरत कौर बादल के बाद आपको भी कम से कम डिप्टी सीएम पद छोड़ देना चाहिए था। पर आप भी तो किसानों से अधिक अपनी गद्दी से लगाव रखते हैं।

इसी बीच, दीपेंदर सिंह हुड्डा ने भी कहा- पंजाब के अकाली दल, AAP ने संसद में कांग्रेस के साथ किसान विरोधी 3 अध्यादेशों का विरोध करने का साहस दिखाया। पर दुर्भाग्य कि हरियाणा के BJP-JJP नेता सत्ता-सुख के लिए किसान से विश्वासघात करने लगे हुए हैं। जब पंजाब के सब दल किसान के पक्ष में एक हो सकते है तो हरियाणा BJP-JJP क्यों नहीं?

उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा, “हरसिमरत कौर के इस्तीफ़े के बाद इस प्रश्न को और बल मिलता है- जब पंजाब के सारे दल किसान के पक्ष में एक हो कर केंद्र के इन किसान-घातक अध्यादेशों के विरोध में आ सकते है तो हरियाणा के सत्तासीन BJP-JJP नेता क्यों किसान से विश्वासघात कर रहे है? किसान-हित से ऊपर सत्ता-लोभ।”

वहीं, हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने कहा- देश 1947में आज़ाद हो गया था लेकिन किसानों को इस 3 बिल के आने के बाद आज़ादी मिली है। अब इसमें विपक्षी पार्टियां लोगों को गुमराह कर रही है और कुछ लोग हो भी रहें, लेकिन हमें उम्मीद है कि धीरे-धीरे लोगों को ये बात समझ आएगी। इस बिल से किसानों को फायदा और तरक्की होगा।

दरअसल, शिरोमणि अकाली दल की नेता एवं खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने कृषि से जुड़े तीन विधेयकों के विरोध में बृहस्पतिवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था। लोकसभा में इन विधेयकों के पारित होने से महज कुछ ही घंटे पहले उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मैंने किसान विरोधी अध्यादेशों और विधेयकों के विरोध में केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। किसानों की बेटी और बहन के तौर पर उनके साथ खड़े होने पर गर्व है।’’

कौर ने प्रधानमंत्री को लिखे अपने चार पृष्ठों के पत्र में कहा कि उनके लगातार तर्क करने और उनकी पार्टी की बार-बार की कोशिशों के बावजूद केंद्र सरकार ने इन विधेयकों पर किसानों का विश्वास हासिल नहीं किया। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी का हर सदस्य किसान है। कौर ने कहा कि शिअद ऐसा कर किसानों के हितों की पैरोकार होने की अपनी वर्षों पुरानी परंपरा को बस जारी रख रही है।

बता दें कि केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल मोदी सरकार में अकाली दल की एकमात्र प्रतिनिधि हैं। अकाली दल, भाजपा की सबसे पुरानी सहयोगी पार्टी है। यह घटना इन प्रस्तावित कानूनों के जरिये केंद्र सरकार द्वारा किये जा रहे कृषि सुधारों को लेकर शिअद और भाजपा के बीच संबंधों में आये तनाव को प्रदर्शित करती है। पंजाब में बड़ी संख्या में किसान इन विधेयकों के खिलाफ हैं और इसने शिअद को दबाव में ला दिया, जिसका परिणाम सरकार से उसके एकमात्र प्रतिनिधि के इस्तीफे के रूप में देखने को मिला है।

इस्तीफा किसानों को मूर्ख बनाने की एक और ‘नौटंकी’- अमरिंदरः हरसिमरत के इस्तीफे पर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने बृहस्पतिवार कहा कि यह ‘‘और कुछ नहीं बल्कि एक नौटंकी’’ है। सिंह ने कहा कि यदि शिरोमणि अकाली दल ने पहले एक रुख अपनाया होता और कृषि अध्यादेशों के खिलाफ उनकी सरकार का समर्थन किया होता तो हो सकता है कि केंद्र संसद में ‘‘किसान विरोधी’’ विधेयक आगे बढ़ाने से पहले 10 बाद सोचता। उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘क्या सुखबीर और हरसिमरत और उनकी मंडली को वह नुकसान नहीं दिखा जो ये विधेयक पंजाब की कृषि और अर्थव्यवस्था को पहुंचाएंगे?’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Bihar Elections 2020: करोड़ों रुपयों से बना किशनगंज पुल उद्घाटन से पहले ही जमींदोज, ग्रामीणों बोले- धांधली की चढ़ा भेंट
2 डॉक्टर को कोरोना योद्धा कहते हैं और शहीद मानने से भागते हैं, यह पाखंड है- नरेंद्र मोदी सरकार पर आईएमए का आरोप
3 वीडियोः शिवसेना नेता से बोले BJP प्रवक्ता- कान में चम्मच क्यों घुसा रखा है? मिला जवाब- ये ब्लूटूथ है; पात्रा बोले- ‘टूथलेस टाइगर’ के कुछ काम नहीं आएगा
IPL 2020
X