ताज़ा खबर
 

अंबाला में दी गई शहीद गुरसेवक को विदाई, निरंजन कुमार का पार्थिव शरीर बेंगलुरु पहुंचा

शहीद निरंजन का पार्थिव शरीर बेंगलुरु के बीईएल ग्राउंड पर अंतिम दर्शनों के लिए रखा गया, जहां कर्नाटक के सीएम सिद्धरमैया भी उन्‍हें श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे। उन्‍होंने शहीद के परिवार को सहायता राशि देने का भी एलान किया है।

Author बेंगलुरु | January 22, 2016 13:05 pm
अंबाला में दी गई कमांडो गुरसेवक को विदाई।

पठानकोट एयरबेस में बम डिफ्यूज करते वक्त शहीद हुए ले. कर्नल निरंजन ई कुमार को आखिरी विदाई दी जाएगी। सोमवार को उनका पार्थिव शरीर बेंगलुरु उनके घर पहुंच गया है। एनएसजी में तैनात निरंजन रविवार को आईईडी ब्लास्ट डिफ्यूज करते वक्‍त घायल हो गए थे, जिसके बाद उन्‍हें अस्‍पताल में दाखिल कराया गया था, लेकिन उन्‍हें बचाया नहीं जा सकता। दूसरी ओर सोमवार को अंबाला के गरनाला में गुरसेवक को एयरफोर्स के जवानों ने दी आखिरी सलामी दी। उन्‍हें श्रद्धांजलि देने के लिए हरियाणा के मिनिस्टर अनिल विज और कैप्टन अभिमन्यु भी पहुंचे। वह एयरफोर्स की स्पेशल गरुड़ टीम के कमांडो गुरसेवक सिंह का पार्थिव शरीर अंबाला में उनके घर पहुंच गया है। हरियाणा के सीएम ने 20 लाख की आर्थिक मदद का एलान किया है।
18 नवंबर को हुई थी गुरसेवक की शादी।

निरंजन NSG के बम डिफ्यूजल स्क्वॉड के मेंबर थे। उनकी शहादत पर बहन ने कहा कि वह निरंजन को अर्जुन के रूप में देखती हैं, जिसने अपनी कर्मभूमि के लिए जान दे दी। उनके पिता ने बताया कि वह हमेशा से आर्मी में जाना चाहते थे। केरल के पलक्कड़ जिले के इलंबसेरी गांव में जन्मे निरंजन ने कम उम्र में ही अपनी मां को खो दिया था। वह बेंगलुरु में अपने 2 भाइयों और एक बहन के साथ पले-बढ़े। एनएसजी में जाने से पहले वे सेना के मद्रास इंजीनियरिंग ग्रुप में अप्वाइंट हुए थे। उनका शादी डॉक्टर केजी राधिका से तीन से पहले हुई थी। वह सितंबर में घरवालों से मिलने आए थे। उनकी 2 साल की एक बेटी है, जिसका नाम विस्मय है।

शहीद निरंजन का पार्थिव शरीर बेंगलुरु के बीईएल ग्राउंड पर अंतिम दर्शनों के लिए रखा गया, जहां कर्नाटक के सीएम सिद्धरमैया भी उन्‍हें श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे। उन्‍होंने शहीद के परिवार को सहायता राशि देने का भी एलान किया है।

Read Also:

घरवालों से 3 महीने पहले मिले थे शहीद निरंजन, एक महीने पहले ही हुई थी कमांडो गुरसेवक की शादी 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App