ताज़ा खबर
 

Fake News बड़ी चुनौती- सूचना-प्रसारण मंत्री से मुलाकात में DNPA सदस्‍यों ने की इसके असर पर बात

डीएनपीए केे प्रत‍िन‍िध‍िमंडल ने इस बात पर भी चर्चा की क‍ि कैसे सरकार के साथ सहयोग कर भव‍िष्‍य में मजबूत होते ड‍िज‍िटल इंडस्‍ट्री की संभावनाओं से लाभ उठाया जाए और आम लोगों तक सूचना पहुंचाई जाए।

Author नई दिल्ली | Updated: September 30, 2019 9:04 PM
सूचना व प्रसारण (आईएंडबी) मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से भेंट के दौरान देश के प्रमुख डिजिटल न्‍यूज पब्‍ल‍िशर्स के प्रतिनिधि।

देश के प्रमुख ड‍िज‍िटल न्‍यूज पब्‍ल‍िशर्स के प्रत‍िन‍िध‍ियों ने आज ड‍िज‍िटल न्‍यूज पब्‍ल‍िशर्स एसोस‍िएशन (डीएनपीए) के बैनर तले सूचना व प्रसारण (आईएंडबी) मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात की। प्रत‍िन‍िध‍िमंडल ने डीएनपीए के गठन के बाद से संगठन की ओर से उठाए गए कदमों की जानकारी मंत्री को दी। प्रत‍िन‍िध‍िमंडल ने फेक न्‍यूज की चुनौती और समाज पर पड़ने वाले इसके असर पर भी चर्चा की। मंत्री ने भी इस बात से सहमत‍ि जताई क‍ि फेक न्‍यूज एक गंभीर मुद्दा है। उन्‍होंने डीएनपीए सदस्‍यों की ओर से उठाए गए कदमों की सराहना की।

बैठक में डीएनपीए के चेयरमैन पवन अग्रवाल ने बताया क‍ि कैसे पारंपर‍िक मीड‍िया संस्‍थानों की ड‍िज‍िटल ईकाइयां संपादकीय गुणवत्‍ता के उच्‍च मानक स्‍थाप‍ित कर रही हैं और तमाम भाषाओं में व‍िश्‍वसनीय व सटीक खबरें देकर देश-व‍िदेश में लगातार बढ़ रही ड‍िज‍िटल आबादी की सेवा कर रही हैं।

डीएनपीए केे प्रत‍िन‍िध‍िमंडल ने इस बात पर भी चर्चा की क‍ि कैसे सरकार के साथ सहयोग कर भव‍िष्‍य में मजबूत होते ड‍िज‍िटल इंडस्‍ट्री की संभावनाओं से लाभ उठाया जाए और आम लोगों तक सूचना पहुंचाई जाए। बैठक में समाचार संस्‍थानों के ल‍िए उच‍ित माहौल बनने और लोकतांत्र‍िक समाज में स्‍वतंत्र मीड‍िया के तौर पर अपनी ज‍िम्‍मेदारी न‍िभाने की बेहतर से बेहतर स्‍थ‍ित‍ि बनाने के मुद्दे पर भी चर्चा हुई।

आईएंडबी म‍िन‍िस्‍टर ने कहा क‍ि उन्‍हें यकीन है क‍ि ज‍िम्‍मेदार मीड‍िया संगठनों की ओर से ऐसी पहल के जर‍िए व‍िश्‍वसनीय तरीके से समाचार व सूचनाएं पूरे देश में आम लोगों तक पहुंचाने की द‍िशा में काफी प्रगत‍ि होगी।

डीपीएनए देश के अग्रणी मीड‍िया संस्‍थानों की ड‍िज‍िटल ईकाइयों का संगठन है। इसमें प्र‍िंट व टीवी, दोनों का प्रत‍िन‍िध‍ित्‍व है। डीएनपीए के संस्‍थापक सदस्‍यों में दैन‍िक भास्‍कर, इंड‍िया टुडे, एनडीटीवी, ह‍िंंदुस्‍तान टाइम्‍स, द इंड‍ियन एक्‍सप्रेस, द टाइम्‍स ऑफ इंड‍िया, अमर उजाला, जागरण न्‍यू मीड‍िया, इनाडू और मलयालम मनोरमा शाम‍िल हैं।

इन संस्‍थानों के पास ही देश के ज्यादातर ड‍िज‍िटल पाठक-दर्शक हैं। डीएनपीए की सदस्‍यता स्‍वतंत्र, ज‍िम्‍मेदार और व‍िश्‍वसनीय मीड‍िया के व‍िचार का समर्थन करने वाली कोई भी पब्‍ल‍िशर संस्‍था ले सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 6 दिन के दौरे से लौटकर बोले आजाद- J&K में सबकुछ ठीक नहीं, ‘सरकार निर्मित आपदा’ से खत्म हुआ कारोबार
2 दिल्ली हाईकोर्ट की अहम टिप्पणी, जनहित याचिकाएं उनके लिए जो अदालत नहीं आ सकते
3 पश्चिम बंगाल में बीजेपी अपना रही ‘असम फार्मूला’, सात महीने पहले ही बना लिया था प्लान, TMC को एक और झटका
ये पढ़ा क्या?
X