ताज़ा खबर
 

‘टैगोर और फैज़’ नजर आए एक साथ, वायरल हुआ ‘हम देखेंगे’ और ‘व्हेयर द माइंड इज विदाउट फियर’ का कॉम्बो

सूफी गायक और संगीतकार सोनम कालरा ने फैज की नज्म "हम देखेंगे" को गाया है और इसके साथ टैगोर की कविता "वेयर द माइंड इज विदाउट फियर " को सुनील मेहरा ने मिश्रित किया है।

फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

फैज अहमद फैज की मशहूर नज्म “हम देखेंगे” देश भर में नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के विरोध में गायी जा रही है। बता दें कि पाकिस्तानी कवि द्वारा 1979 में लिखी यह नज्म लगभग सभी सीएए विरोधी स्थानों पर गायी गई। यह सिलसिला संसद द्वारा सीएए पारित होने के बाद से चल रहा है। इसके अलावा रवींद्रनाथ टैगोर की प्रसिद्ध कविता “वेयर द माइंड इज विदाउट फियर ” भी एंटी सीएए नारों में शामिल है।

फैज़ और टैगोर की कविता का बनाया कॉम्बो: बता दें कि सूफी गायक और संगीतकार सोनम कालरा ने फैज की नज्म  “हम देखेंगे” को गाया है और इसके साथ टैगोर की कविता “वेयर द माइंड इज विदाउट फियर ” को सुनील मेहरा ने मिश्रित किया है। इसके वीडियो में कालरा फैज़ और टैगोर की दुनिया का कॉम्बो बना रहे हैं। यह वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। बताया जा रहा है कि इस वीडियो को बनाने के पीछे का मकसद स्वतंत्रता और शांति के संदेश को आगे बढ़ाते रहना है।

Hindi News Live Hindi Samachar 23 January 2020: देश की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

देश के बाहर भी लोग पसंद कर रहे यह वीडियो: इस वीडियो में मनीष सहारिया की मधुर संगीत और इन्नी सिंह की सिनेमैटोग्राफी के साथ कालरा ने तीन अन्य कलाकारों के साथ मिलकर दो महान कवियों की नज्म को बेहतरीन तरीके से पेश किया है। इस वीडियो को भारत के अलावा सीमा पार के लोग भी पसंद कर रहे हैं।

Over the past 10 days have heard 6 different renditions of #HumDekhenge. The power of poetry! Who would have thought one day #Faiz would become the protest anthem in India.That 73 years after a land was partitioned, Faiz would bind and stir emotions.https://t.co/kuMsrWhTHp

सरकार तक आवाज पहुंचाने की कर रहे कोशिश:  बता दें कि लोकसभा में 9 दिसंबर को सीएए पास होने के बाद से ही देश में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। कई शहरों में लोग हिंसक प्रदर्शन भी कर चुके हैं। इन प्रदर्शनों के दौरान लोग अपनी आवाज सरकार तक पहुंचाने के लिए तमाम तरह के हथकंडे अपना रहे हैं। इस क्रम में लोग फैज अहमद फैज का नज्म, रविद्रनाथ टैगोंर की कविताएं, पोस्टर का भी इस्तेमाल कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 US ने दोहराया J&K पर मदद का राग, भारत का दो टूक जवाब- तीसरे पक्ष की भूमिका ही नहीं
2 नागरिकता विवाद के बीच दिग्विजय सिंह की मांग- नरेंद्र मोदी, अमित शाह को NRC के बजाय बनाना चाहिए ‘नेशनल रजिस्टर ऑफ अनइंप्लॉयड यूथ’
3 गौरव वल्‍लभ ने पूछा गुजरात पर सवाल, संबित पात्रा ने कहा- पहले बताओ तुम्‍हारे सिर पर कितने बाल
ये पढ़ा क्या?
X