ताज़ा खबर
 

POK में लगातार गतिविधियां चला रहे चीन को भारत ने साउथ चाइना सी में जाकर घेरा

भारत जल्द ही वियतनाम के दक्षिण में सैटेलाइट ट्रैकिंग और इमेजिंग सेंटर स्थापित करेगा। इसकी बदौलत उपग्रहों से खींची गई तस्वीरों तक वियतनाम की भी पहुंच हो जाएगी और वह आसानी से चीन नजर रख सकेगा।

चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

भारत जल्द ही वियतनाम के दक्षिण में सैटेलाइट ट्रैकिंग और इमेजिंग सेंटर स्थापित करेगा। इसकी बदौलत भारत के उपग्रहों (भारतीय अर्थ ऑब्जर्वेशन सैटेलाइटों) से खींची गई तस्वीरों तक वियतनाम की भी पहुंच हो जाएगी और वह आसानी से चीन और दक्षिण चीन सागर के इलाके पर नजर रख सकेगा।

भारत का यह कदम चीन को परेशान करने वाला है, क्‍योंकि उसका वियतनाम के साथ काफी समय से सीमा विवाद चल रहा है। आपको बता दें कि वियतनाम के साथ मिलकर भारत दक्षिण चीन सागर में तेल की खोज कर रहा है। इस प्रोजेक्‍ट को लेकर चीन कई बार आपत्ति जता चुका है। ठीक इसी प्रकार भारत गुलाम कश्‍मीर में चीन की परियोजनाओं पर आपत्ति जताता रहा है, लेकिन वह पाकिस्‍तान के साथ मिलकर लगातार सामरिक गतिविधियां चला रहा है।

वियतनाम में भारत की ओर से सैटेलाइट ट्रैकिंग और इमेजिंग सेंटर लगाने के फैसले को गुलाम कश्‍मीर में चीन की गतिविधियों के जवाब के तौर पर देखा जा रहा है। हालांकि अर्थ ऑब्ज़र्वेशन सैटेलाइटों में कृषि, वैज्ञानिक तथा पर्यावरण से जुड़ी एप्लीकेशन होती हैं और इसे नागरिक उपकरण कहा गया है, लेकिन रक्षा विशेषज्ञों के अनुसार उन्नत इमेजिंग तकनीक की वजह से तस्वीरों का इस्तेमाल सैन्य उद्देश्यों के लिए भी किया जा सकता है। विवादित दक्षिण चीन सागर को लेकर चीन के साथ बढ़ते तनाव की वजह से वियतनाम काफी समय से खुफिया जानकारी पाने, निगरानी करने तथा टोह लेने की उन्नत तकनीकों को पाने की कोशिश करता रहा है।

सिंगापुर के एस. राजरत्नम स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज में मरीन सिक्योरिटी एक्सपर्ट कॉलिन कोह का कहना है, ‘सैन्य नजरिए से देखें, तो यह कदम काफी महत्वपूर्ण है। यह दोनों देशों (भारत और वियतनाम) के लिए फायदे की स्थिति है, क्योंकि जहां एक ओर इस कदम से वियतनाम को अपनी कमजोरियां दूर करने में मदद मिलेगी, वहीं भारत की पहुंच भी बढ़ जाएगी।’ अधिकारियों के अनुसार, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) इस सैटेलाइट ट्रैकिंग तथा डेटा रिसेप्शन सेंटर का खर्च वहन करेगा, और इसे हो ची मिन्ह शहर में स्थापित किया जाएगा। इसकी मदद से भारतीय उपग्रहों के प्रक्षेपण (लॉन्च) पर भी निगरानी रखी जा सकेगी। मीडिया के अनुसार इसमें लगभग दो करोड़ 30 लाख अमेरिकी डॉलर का खर्चा होगा।

54 साल से अंतरिक्ष में अनुसंधानरत भारत का कार्यक्रम इस समय ज़ोर पकड़े हुए है, और हर महीने वह कम से कम एक उपग्रह लॉन्च कर रहा है। उसके ग्राउंड स्टेशन अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह के अलावा ब्रुनेई, पूर्वी इंडोनेशिया के बियाक तथा मॉरीशस में भी हैं, जिनके जरिये वह लॉन्च के शुरुआती चरणों में उपग्रहों पर नज़र रख सकता है। इसरो के प्रवक्ता देवीप्रसाद कार्णिक का कहना है कि वियतनाम में स्थापित होने वाले सेंटर के बाद यह क्षमता बढ़ जाएगी।

Read Also: पीओके में आर्थिक गलियारे पर चिंता को चीन ने नकारा

Next Stories
1 ओबामा की नसीहत के बाद बदले पाकिस्‍तान के सुर, नवाज शरीफ बोले- भारत ने कार्रवाई करने लायक पुख्‍ता सबूत दिए
2 हमें धर्म को आतंकवाद से अलग करना होगा : सुषमा
3 बुर्किनाफासो : शस्त्रागार पर छापेमारी
ये  पढ़ा क्या?
X