ताज़ा खबर
 

डगमगा रहा संविधान में युवाओं का यकीन, मौजूदा प्रदर्शनों से कमजोर होगी लोकतंत्र की जड़- बोले पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

पूर्व राष्ट्रपति ने देश में जारी आंदोलनों से जुड़े किसी मुद्दे का नाम लिये बिना कहा, ‘‘आम राय लोकतंत्र की जीवन रेखा है। लोकतंत्र में सभी की बात सुनने, विचार व्यक्त करने, विमर्श करने, तर्क वितर्क करने और यहाँ तक कि असहमति का महत्वपूर्ण स्थान है।’’

Author नई दिल्ली | Updated: January 24, 2020 8:40 AM
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (बीच में)। साथ में मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा (बाएं) और दूसरे चुनाव आयुक्त अशोक लवासा। (फोटो-PTI)

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि मौजूदा दौर में युवाओं का यकीन संविधान पर से डगमगाने लगा है। उन्होंने कहा कि हालिया विरोध-प्रदर्शनों से लोकतंत्र की जड़ें कमजोर होंगी। विभिन्न महत्वपूर्ण मुद्दों पर देश में उभरे युवाओं के स्वर का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि सहमति और असहमति लोकतंत्र के मूल तत्व हैं। गुरूवार (23 जनवरी) को निर्वाचन आयोग द्वारा आयोजित पहले सुकुमार सेन स्मृति व्याख्यान को संबोधित करते हुए प्रणब मुखर्जी ने कहा, ‘‘भारतीय लोकतंत्र समय की कसौटी पर हर बार खरा उतरा है। पिछले कुछ महीनों में विभिन्न मुद्दों पर लोग सड़कों पर उतरे, खासकर युवाओं ने इन महत्वपूर्ण मुद्दों पर अपनी आवाज को मुखर किया। संविधान में इनकी आस्था दिल को छूने वाली बात है।’’

पूर्व राष्ट्रपति ने देश में जारी आंदोलनों से जुड़े किसी मुद्दे का नाम लिये बिना कहा, ‘‘आम राय लोकतंत्र की जीवन रेखा है। लोकतंत्र में सभी की बात सुनने, विचार व्यक्त करने, विमर्श करने, तर्क वितर्क करने और यहाँ तक कि असहमति का महत्वपूर्ण स्थान है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि देश में शांतिपूर्ण आंदोलनों की मौजूदा लहर एक बार फिर हमारे लोकतंत्र की जड़ों को गहरा और मजबूत बनाएगी।’’

मुखर्जी ने देश में लोकतंत्र के मजबूत आधार का श्रेय भारत में चुनाव की सर्वोच्च मान्यता को देते हुये कहा, ‘‘मेरा विश्वास है कि देश में चुनाव और चुनाव प्रक्रिया को पवित्र एवं सर्वोच्च बनाये रखने के कारण ही लोकतंत्र की जड़ें मजबूत हुयी हैं। यह सब भारत के चुनाव आयोग की संस्थागत कार्ययोजना के बिना संभव नहीं होता।’’ आयोग ने देश के पहले मुख्य चुनाव आयुक्त सुकुमार सेन की स्मृति में पहला व्याख्यान आयोजित किया है। देश में पहली और दूसरी लोकसभा के चुनाव सेन की अगुवाई में ही सफलतापूर्वक संपन्न हुये थे।

इस अवसर पर मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा, चुनाव आयुक्त अशोक लवासा, सुशील चंद्रा के अलावा तमाम पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त, चुनाव आयुक्त और अन्य देशों के निर्वाचन अधिकारी मौजूद थे। व्याख्यान को संबोधित करते हुये मुखर्जी ने चुनाव आचार संहिता के महत्व को बरकरार रखने की जरूरत पर भी बल देते हुये कहा कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के लिये संहिता का निष्ठापूर्वक पालन किया जाना जरूरी है।

उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से ही निर्वाचन प्रक्रिया को सुदृढ़ बनाने के लिये आयोग द्वारा किये गये कारगर उपायों ने भारत की निर्वाचन प्रणाली को न सिर्फ विश्वसनीय बनाया है बल्कि इसकी साख पूरी दुनिया में स्थापित हुई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 NRC के समर्थन में राज ठाकरे? बोले- पाकिस्तान व बांग्लादेश से आए घुसपैठियों को देश से निकालो
2 वोटर कार्ड से लिंक होगा Aadhar Card, सरकार ने दी इजाजत, पर दुरूपयोग पर भी चेताया
3 द इकोनॉमिस्ट ने लिखा- महात्मा गांधी के सिद्धांतों की धज्जियां उड़ा रहे नरेंद्र मोदी, डरे हैं 20 करोड़ मुसलमान
शाहीन बाग LIVE
X