ताज़ा खबर
 

सोशल मीडिया दुरुपयोग रोकने को राष्ट्रीय नीति बने: वेंकैया नायडू

सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर चिंता व्यक्त करते हुए राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने गुरुवार को सरकार से राजनीतिक दलों समेत सभी हितधारकों के साथ चर्चा करने के बाद एक राष्ट्रीय नीति बनाने को कहा ताकि इस खतरे से मुकाबला किया जा सके।

Author Updated: July 19, 2018 7:19 PM
राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू। (फाइल फोटो)

सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर चिंता व्यक्त करते हुए राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने गुरुवार को सरकार से राजनीतिक दलों समेत सभी हितधारकों के साथ चर्चा करने के बाद एक राष्ट्रीय नीति बनाने को कहा ताकि इस खतरे से मुकाबला किया जा सके। नायडू ने कहा, “मैं सरकार को केवल यह सुझाव दे सकता हूं कि राजनीतिक दलों समेत सभी हितधारकों के साथ चर्चा करे और उसके बाद एक राष्ट्रीय नीति बनाने का प्रयास करे क्योंकि इसकी अंतर्राष्ट्रीय जटिलताएं भी हैं। उच्च सदन में कई सदस्यों द्वारा मुद्दे पर चिंता व्यक्त किए जाने के बाद प्रश्नकाल के दौरान उन्होंने यह प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा, “सोशल मीडिया का दुरुपयोग व्यापक, संवेदनशील और गंभीर मुद्दा है। हम एक तरफा निष्कर्ष नहीं निकाल सकते हैं और साथ ही हम एकतरफा कार्रवाई भी नहीं कर सकते। इस क्षण सरकार को कुछ करने की जरूरत है, इसकी आलोचना होगी और विरोध भी और उसके बाद उसी समय क्या आप जो चल रहा है उसे वैसे ही चलने की इजाजत देंगे?”

उन्होंने सदन को मुद्दे पर एक अलग चर्चा करने का सुझाव दिया। सभापति ने केंद्रीय कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद से राजनीतिक दलों समेत सभी हितधारकों के साथ चर्चा करने को कहा। प्रसाद ने सभापति की प्रतिक्रिया के जवाब में कहा, “मैं आपका सुझाव मानता हूं और चर्चा की जाएगी।”

गौरतलब है कि आज के दौरान आज के दौर में सोशल मीडिया से जितने फायदे हैं उससे कहीं ज्यादा नुकसान भी देखने को मिलते हैं। वाट्सअप और फेसबुक पर कई बार फर्जी खबरें सुनने को मिलती है। जो बेहद तेजी से वायरल होती हैं जिनका सच्चाई से कोई औचित्य ही नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 आपा खो बैठे प्रोफेसर रामगोपाल यादव, अविश्वास प्रस्ताव पर पूछा सवाल तो बोल गये अपशब्द
2 जियो इंस्टीट्यूट: वजूद में आने से पहले ही कमाई का खाका तैयार, केंद्र को बताया- हजार छात्रों से मिलेंगे 100 करोड़
ये पढ़ा क्‍या!
X