ताज़ा खबर
 

ईवीएम छेड़छाड़ के आरोप पर चुनाव आयोग का AAP को जवाब- पंजाब में क्यों हारे चुनाव, खुद करें मंथन

पंजाब विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद आम आदमी पार्टी ने ईवीएम मशीन से छेड़छाड़ का आरोप लगाया था।

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली की सीएम अरविंद केजरीवाल।

पंजाब विधानसभा चुनाव में ईवीएम मशीन से छेड़छाड़ का आरोप लगाने पर चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी को रविवार को जवाब दिया है। चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी को कहा, ‘आपकी उम्मीदों के मुताबिक आपको पंजाब में जीत क्यों नहीं मिली, इसका मंथन आप खुद करें। आपकी पार्टी द्वारा अच्छा प्रदर्शन नहीं करने पर ईवीएम से छेड़छाड़ का आरोप लगाना गलत है। चुनाव आयोग पूरी तरह से संतुष्ट है कि ईवीएम मशीन से छेड़छाड़ नहीं की जा सकती।’

बता दें, पंजाब विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया था कि ईवीएम मशीनों के साथ छेड़छाड़ की गई थी। पंजाब की 117 विधानसभा सीटों में से आम आदमी पार्टी को केवल 20 सीटें मिली थीं।

शुक्रवार को मध्य प्रदेश के भिंड में एक अभ्यास कार्यक्रम के दौरान एक ईवीएम मशीन में गड़बड़ी देखने को मिली थी। इस मशीन का कोई भी बटन बदाने पर पर्ची भारतीय जनता पार्टी के निशान कमल के फूल की निकल रही थी। इसके बाद आम आदमी पार्टी और कांग्रेस सहित कई विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग और भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा था। मामला सामने आने के बाद अरविंद केजरीवाल ने चुनाव आयुक्त से मुलाकात की थी। मुलाकात के बाद अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि यह देश के साथ धोखा हो रहा है। चुनाव आयोग को इन मामलों की जांच करनी चाहिए।

पंजाब चुनाव के नतीजे के बाद अरविंद केजरीवाल ने ईवीएम मशीन की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए थे। उन्होंने पंजाब का जिक्र करते हुए कहा था कि वहां के लोगों में अकाली पार्टी के लिए गुस्सा था फिर भी आप का वोट प्रतिशत 25 प्रतिशत रहा और अकाली का उससे ज्यादा 31 प्रतिशत। केजरीवाल ने पूछा था कि ऐसा कैसे हो सकता है? केजरीवाल ने आगे कहा था कि चुनाव आयोग का काम है कि वह लोगों के मन में ईवीएम के लिए विश्वास को बनाए रखें। केजरीवाल ने कहा था कि हो सकता है कि ईवीएम की मदद से आप के 25 प्रतिशत वोटों को SAD-BJP के गठबंधन के पास ट्रांसफर किया गया हो।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App