ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी ने बंद किए 500 और 1000 रुपए के नोट, बदलने के लिए दी 50 दिन की मोहलत

अपने संबोधन में पीएम ने कहा कि पूरा विश्‍व भारत के विकास को मान रहा है।

तमिलनाडु के एक शख्स ने जमा किए 246 करोड़ रुपए। (Representative Image)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंलगवार को राष्‍ट्र को संबाेधित करत हुए ऐलान किया कि बुधवार मध्‍यरात्रि से 500 और 1000 रुपये के नोट बंद हो जाएंगे। वे अब कागज के टुकड़ों से अध्‍ािक कुछ नहीं होंगे। उन्‍होंने कहा कि जिन लोगों के पास 500 और 1000 रुपये के नोट हैं वे लोग 10 नवंबर से 30 दिसंबर तक बैंक या पोस्‍ट ऑफिस में जमा कराए जा सकते हैं। 50 दिन का समय है इसके लिए अफरातफरी करने की जरुरत नहीं है। बैंक में जमा किए गए पैसों को निकाला जा सकता है। शुरू में एटीएम से 2000 रुपये ही निकाले जा सकेंगे। नौ और 10 नवंबर के बीच एटीएम से पैसे निकालने की बंदिश होगी। 11 नवंबर तक अस्‍पतालों में पुराने नोट दिए जा सकेंगे। 9 और 10 नवंबर को एटीएम नोट काम नही करेंगे। अपने संबोधन में पीएम ने कहा कि पूरा विश्‍व भारत के विकास को मान रहा है। उन्‍होंने कहा, ”भारत को विश्‍व में चमक‍ते सितारे के रूप में देखा जा रहा है। यह सरकार सबका साथ सबका विकास में यकीन रखती है। यह सरकार गरीबों को समर्पित है।”

HOT DEALS
  • Honor 7X 64 GB Black
    ₹ 16999 MRP ₹ 17999 -6%
    ₹0 Cashback
  • Honor 8 32GB Pearl White
    ₹ 12999 MRP ₹ 30999 -58%
    ₹1500 Cashback

देखें वीडियो, पीएम मोदी का बड़ा ऐलान- बंद होंगे 500 और 1000 रुपए के नोट, आएंगे 500 और 2,000 के नए नोट: 

पीएम ने कहा, ”इसे जनधन योजना, स्‍टैंड अप योजना, प्रधानमंत्री उज्‍जवला योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना और सॉइल हैल्‍थ कार्ड योजना से समझा जा सकता है। पिछले दशकों से हम यहअनुभव कर रहे हैं कि देश में भ्रष्‍टाचार और कालाधन ने अपनी जड़ें जमा ली हैं। देश से गरीबी हटाने में भ्रष्‍टाचार और कालाधन सबसे बड़ी बाधा है। एक तरफ तो हम विश्‍व में आगे बढ़ने वाले देशों में शामिल है लेकिन दूसरी ओर भ्रष्‍टाचार के मामले में हम 76वें नंबर पर पहुंच गए हैं। यह दर्शाता है कि भ्रष्‍टाचार किस तरह फैला हुआ है। कुछ वर्ग गरीबों को नजरअंदाज कर रहे हैं। इससे वे फलते-फूलते रहेे हैं। वहीं देश के करोड़ों लोगों ने ईमानदारी को जीकर दिखाया है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App