हर सियासी दल आपको ही चाहेगा- बोले अर्नब तो PK ने कहा था- लकी हूं कि ऊपरवाला दयालु है

प्रशांत किशोर ने कहा था कि वे चुनावी रणनीति बनाने के काम को छोड़ रहे हैं। जिस पर एंकर हैरान रह गए।

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (फोटो- फेसबुक- @Prashantkishorr)

रिपब्लिक पर इंटरव्यू के दौरान एंकर अर्नब गोस्वामी ने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से सवाल किया था कि बंगाल चुनाव में जीत के बाद हर कोई आपको अपनी पार्टी में शामिल करना चाहता है? इसका जवाब देते हुए प्रशांत किशोर ने कहा था कि मेरा दिमाग भी अन्य भारतीयों की तरह ही है। मैं कई मायनों में भाग्यशाली रहा हूं और ईश्वर मेरे ऊपर दयालु है कि मैं पार्टियों को चुनाव जिता सका।

कार्यक्रम में प्रशांत किशोर ने कहा था कि वे चुनावी रणनीति बनाने के काम को छोड़ रहे हैं। जिस पर एंकर हैरान रह गए। प्रशांत किशोर ने बताया कि वे कई साल से चुनावी रणनीति बनाने का काम करते रहे हैं। ऐसें में वे अपने लिए एक ब्रेक चाहते हैं। प्रशांत किशोर ने कहा था कि वे चुनाव रणनीति बनाने का सारा काम IPAC में अपने सहयोगियों को सौंप देंगे। उन्होंने कहा कि IPAC में उनके पास कोई ऐसा पद नहीं है जिससे कि वे इस्तीफा देंगे।

मालूम हो कि हाल ही में राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के प्रमुख सलाहकार के पद से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने सीएम के नाम लिखी चिट्ठी में सार्वजनिक जीवन से अस्थायी ब्रेक लेने के फैसले का जिक्र किया और कहा कि उन्हें अभी भी अपने आगे के कदमों पर विचार करना है।

बताया गया है कि प्रशांत किशोर ने चिट्ठी में कैप्टन से खुद को कार्यमुक्त करने की अपील करते हुए कहा कि उन्होंने कभी सलाहकार के पद का प्रभार लिया ही नहीं। उन्होंने आगे लिखा, “चूंकि मुझे अभी अपने भविष्य के कार्य के बारे में निर्णय लेना है, इसलिए मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि कृपया मुझे इस जिम्मेदारी से मुक्त करने की कृपा करें। इस पद के लिए मुझे चुनने और अवसर देने के लिए मैं आपको धन्यवाद देता हूं।”

वहीं, कांग्रेस पार्टी प्रशांत किशोर को अपने साथ लेना चाहती है। इसको लेकर उनकी राहुल गांधी और अन्य नेताओं के साथ कई बार बैठक भी हो चुकी है। राहुल गांधी ने संकेत दिया है कि प्रशांत किशोर की भूमिका को लेकर जल्द फैसला किया जाएगा। फिलहाल इस बारे में पार्टी के अंदर मंथन हो रहा है कि उनको लेने से कितना नफा-नुकसान होगा।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।