ताज़ा खबर
 

सर्वे: भीख मांगने वालों के आंकड़ों में भारी कमी, लेकिन मुस्लिम बाकियों के मुकाबले अब भी ज्यादा

भारत में भीख मांगना जुर्म है। इसके लिए 3-10 साल की कैद है।
दिल्ली की जामा मस्जिद के बाहर बैठा एक भीख मांगने वाला शख्स। (Express Photo: Oinam Anand)

जनगणना रिपोर्ट ने देश में भीख मांगने वालों की जनसंख्या बताई है। इसके मुताबिक, भीख मांगने वाले सबसे ज्यादा लोग मुस्लिम धर्म के हैं। इस रिपोर्ट में हिंदू, ईसाई और बाकी धर्मों के बारे में भी बताया गया है। रिपोर्ट को 2011 में आई जनगणना के आधार पर तैयार किया गया है। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि 72.89 करोड़ लोग ऐसे हैं जो कोई काम नहीं करते। हालांकि, ऐसा नहीं है कि देश में इतने लोग सच में ही खाली बैठे हैं। दरअसल, काम ना करने वाली केटेगरी में उन लोगों को रखा जाता है जो देश की अर्थव्यस्था में कोई योगदान नहीं देते। इसमें खेती करने वाले, घर का काम करने वाले लोग भी शामिल हैं। ऐसे भी लोग हैं जिन्हें सैलरी भी मिलती है।

क्या है भिखारियों के आंकड़ें: देश के लिए अच्छी बात यह है कि 2001 में हुई जनगणना की तुलना में भिखारियों की संख्या अब काफी कम हुई है। जहां 2001 में 6.3 लाख लोग भीख मांगते थे, वहीं अब आंकड़े 41 प्रतिशत गिरकर 3.7 लाख पर आ गए हैं। इन लोगों में 92,760 मुस्लिम लोग भीख मांगते हैं। इन आकंड़ों को बड़ा इसलिए माना गया है क्योंकि इनकी जनसंख्या देश की जनसंख्या की कुल 14 प्रतिशत ही है। वहीं हिंदू, जिनकी जनसंख्या 79.8 प्रतिशत है उनमें से 2.68 लाख लोग भीख मांगते हैं। वहीं ईसाई धर्म को मानने वाले 0.88 प्रतिशत लोग भीख मांग रहे हैं। वहीं बौद्ध धर्म में 0.52 प्रतिशत, सिख में 0.45 प्रतिशत और जैन धर्म में 0.06 प्रतिशत भीख मांगते हैं।

Read Also: मोदी सरकार के लिए अच्‍छी खबर, रॉयटर्स ने सर्वे में कहा- बरकरार रहेगा सबसे तेज बढ़ती अर्थव्‍यवस्‍था का तमगा

जुर्म है भीख मांगना: भारत में भीख मांगना जुर्म है। इसके लिए 3-10 साल की कैद है, लेकिन अभी तक यह साफ नहीं है कि किन लोगों को भीख मांगने वाले की कैटेगरी में रखना है। कई राज्यों में तो बेघर, मजदूर और दूसरी जगहों से आए हुए लोगों को भी इसी कैटेगरी में रखा जाता है। इसी पर लोगों में असहमति है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.