ताज़ा खबर
 

EU से भी पाकिस्तान को लगी फटकार, सदस्य ने पूछा- क्या चांद से भारत में पहुंच रहे आतंकी?

यूरोपीय यूनियन ने जम्मू कश्मीर को भारत और पाकिस्तान के बीच का द्विपक्षीय मुद्दा बताया और दोनों देशों से कश्मीर मुद्दे का शांतिपूर्वक हल निकालने के लिए सीधी बातचीत करने पर जोर दिया।

Author नई दिल्ली | Updated: September 18, 2019 2:42 PM
यूरोपियन यूनियन ने भी जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर भारत का समर्थन किया। (image source-twitter)

पाकिस्तान, जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर दुनिया भर से समर्थन जुटाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन अधिकतर अन्तरराष्ट्रीय मंचों पर उसे निराशा ही हाथ लगी है। अब यूरोपीय यूनियन ने भी पाकिस्तान को फटकार लगायी है और भारत का समर्थन किया है। यूरोपीय यूनियन संसद की आम सभा का आयोजन फ्रांस में किया गया। इस दौरान पोलैंड के यूरोपियन कंजरवेटिव्स एंड रिफॉर्मिस्ट्स ग्रुप के नेता रिजार्ड जारनेकी ने कहा कि “भारत एक महान लोकतंत्र है। हमें यह देखने की जरुरत है कि जम्मू कश्मीर, भारत में आतंकी घटनाएं हो रही हैं। ये आतंकी चांद से नहीं आए हैं। वो पड़ोसी देश से आ रहे हैं। हमें भारत का समर्थन करना चाहिए।”

वहीं ईयू में ग्रुप ऑफ यूरोपियन पीपल्स पार्टी के नेता फुलवियो मार्सिएलो ने कहा कि ‘पाकिस्तान परमाणु हमले की धमकी दे रहा है। पाकिस्तान वो जगह है, जहां आतंकी यूरोप पर आतंकी हमले की योजना बनाने में सक्षम हैं।’ मार्सिएलो ने ये भी कहा कि पाकिस्तान में मानवाधिकारों का उल्लंघन हो रहा है। यूरोपीय यूनियन के अधिकतर देशों ने इस आम सभा में जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर भारत का समर्थन किया।

यूरोपीय यूनियन ने जम्मू कश्मीर को भारत और पाकिस्तान के बीच का द्विपक्षीय मुद्दा बताया और दोनों देशों से कश्मीर मुद्दे का शांतिपूर्वक हल निकालने के लिए सीधी बातचीत करने पर जोर दिया। बता दें कि यूरोपीय संसद में 11 साल के बाद पहली बार कश्मीर मुद्दे पर चर्चा हुई। इस दौरान आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान की तीखी आलोचना की गई। इससे पहले संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार आयोग की बैठक में भी पाकिस्तान को निराशा हाथ लगी थी और भारत ने जम्मू कश्मीर के मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की पाकिस्तान की कोशिशों को करारा जवाब दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 LIC ने मोदी शासन में PSU कंपनियों में फंसाए 10.7 लाख करोड़ रुपये, 2014 से पहले 6 दशक में लगाया था इतना पैसा!
2 BHEL, BSNL,SECL जैसी सरकारी कंपनियों में जबर्दस्त नकदी संकट, पैसे बचाने में जुटीं
3 ‘हजारों डूब रहे, एक शख्स के लिए भरा गया बांध’, मोदी के बर्थडे सेलिब्रेशन पर भड़कीं मेधा पाटकर