ताज़ा खबर
 

कोच्चि: तीन किमी पैदल चलकर ले जाना पड़ा था शव, मानवाधिकार आयोग ने मामला दर्ज कर मांगी रिपोर्ट

आदिवासियों को अपने गांव में सड़कों की खस्ताहालत के चलते ऐसा करना पड़ा था। आयोग ने मीडिया में आई खबरों के आधार पर मामला दर्ज कर लिया।

गांव में सड़कों की खस्ताहालत के चलते ऐसा करना पड़ा था। प्रतीकात्मक तस्वीर।

केरल राज्य मानवाधिकार आयोग ने राज्य सरकार से उस घटना पर रिपोर्ट मांगी है जिसमें कुछ आदिवासियों को एर्नाकुलम जिले में जंगलों के रास्ते करीब तीन किलोमीटर चलकर एक व्यक्ति के शव को पोस्टमॉर्टम के लिये ले जाना पड़ा था। आदिवासियों को अपने गांव में सड़कों की खस्ताहालत के चलते ऐसा करना पड़ा था। आयोग ने मीडिया में आई खबरों के आधार पर मामला दर्ज कर लिया। आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति एंटनी डोमिनिक ने मु्ख्य सचिव और एर्नाकुलम जिला कलेक्टर को तीन सप्ताह के भीतर रिपोर्ट देने के लिये कहा है।

दरअसल बीते सप्ताह एर्नाकुलम जिले में कुंजीप्पाड़ा आदिवासी कॉलोनी में 37 साल के सोमन ने कथित रूप से अपने घर में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली थी। पुलिस जांच के बाद उसके शव को कथित रूप से चटाई में लपेटकर कंधों पर डालकर नजदीकी सड़क पर ले जाया गया। इसके बाद वे एक नदी पार कर शव को एक जीप में रखकर मुख्य सड़क पर ले गए। बाद में शव को एंबुलेंस में रखकर पोस्टमॉर्टम के लिये कोथामंगलम तालुक अस्पताल ले जाया गया।

आपको याद दिला दें कि साल 2017 में भी केरल से एक ऐसी ही खबर आई थी। उस वक्त केरल के सबसे बड़ी जनजातीय बस्ती अट्टापडी गांव में एक गर्भवती महिला को एंबुलेंस नहीं मिली थी। लोगों को उस वक्त खुद के बनाए बनाए कपड़े के स्ट्रेचर पर महिला को ले जाना पड़ा था क्योंकि जो एंबुलेंस थी उसका फिटनेस टेस्ट पूरा नहीं हुआ था।

इस मामले में अच्छी बात ये रही थी कि बच्चे को कोई नुकसान नहीं हुआ था और महिला ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया था। उस वक्त डीएमओ ने इस मामले की जांच के आदेश दिए थे। मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया था कि महिला को कम से कम सात किलोमीटर तक ले जाया गया था। उस वक्त जनजातीय पुरुषों और महिलाओं के एक समूह द्वारा महिला को नदी पार कराने का दृश्य भी विभिन्न टीवी चैनल पर प्रसारित किया गया था।

(भाषा इनपुट के साथ)

Next Stories
1 अब से इस लिबास में दिखेंगे जनरल बिपिन रावत, देखें कैसी है देश के पहले CDS की यूनिफॉर्म
2 आर्मी चीफ का कार्यभार संभालते ही पाकिस्तान पर जनरल मनोज मुकुंद नरावने का निशाना- आतंक है पड़ोसी मुल्क की पॉलिसी
3 महाराष्ट्रः मंत्रिमंडल में न किए गए शामिल, तो Congress विधायक के समर्थकों ने पार्टी कार्यालय पर बोला हमला
ये खबर पढ़ी क्या?
X