ताज़ा खबर
 

नौकरी बदलने पर नहीं खुलवा सकेंगे नया अकाउंट, EPFO लॉन्च करेगा ‘One Employee One EPF Account’

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने 21 अप्रैल को हुई एक आंतरिक बैठक में यह फैसला किया है। इससे पहले सरकार 19 अप्रैल को भविष्यनिधि निकासी के संबंध में अपना फैसला वापस ले चुकी है।

Author नई दिल्ली | April 25, 2016 10:00 AM
सरकार ने निकासी को सख्त बनाने और अंशधारकों को 58 साल की उम्र से पहले भविष्य निधि में नियोक्ता के योगदान को निकालने के संबंध में मानदंडों को सख्त बनाया था। (Photo Source:PTI)

सेवानिवृत्ति कोष संस्था कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने एक मई को ‘एक कर्मचारी, एक ईपीएफ खाता’ पेश करने की योजना बनाई है ताकि समय से पहले भविष्य निधि की निकासी को हतोत्साहित किया जा सके और राज्य सरकारों को इसकी पेंशन प्रणाली से जुड़ने के लिए प्रेरित किया जा सके। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने 21 अप्रैल को हुई एक आंतरिक बैठक में यह फैसला किया है। इससे पहले सरकार 19 अप्रैल को भविष्यनिधि निकासी के संबंध में अपना फैसला वापस ले चुकी है। इसमें सरकार ने निकासी को सख्त बनाने और अंशधारकों को 58 साल की उम्र से पहले भविष्य निधि में नियोक्ता के योगदान (मूल वेतन का 3.67 प्रतिशत) को निकालने के संबंध में मानदंडों को सख्त बनाया था।

Read Also: PF खाते में जमा पैसे पर बोनस दे सकता है EPFO, कम सैलरी वालों को ज्‍यादा ब्‍याज देने पर भी विचार

गुरुवार को हुई बैठक में ईपीएफओ के केंद्रीय भविष्य निधि आयुक्त वी पी जॉय ने भविष्य निधि निकासी के मानदंडों के संबंध में विवाद पर चर्चा की। जॉय ने कहा कि कर्मचारियों और नियोक्ताओं के बीच प्रभावी संवाद की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों द्वारा हर बार नौकरी बदलने पर निकासी से जुड़े मुद्दे का समाधान अच्छी सेवा और आसान माध्यम के जरिए किया जाए। उनका मानना है कि नियोक्ताओं और कर्मचारियों को अपने व्यक्तिगत प्रोफाइल से जुड़ी राशि देखने की सुविधा होनी चाहिए।

Read Also: EPFO का फेसबुक-ट्विटर अकाउंट शुरू, शिकायत-सुझाव-मैसेज कर सकेंगे ऑनलाइन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App