ताज़ा खबर
 

‘घूसखोर’ इंजीनियर ने लिखी किताब, गुजरात के शिक्षा मंत्री ने किया विमोचन; RAS टॉप लिस्ट में शिक्षा मंत्री के रिश्तेदार, हो रही जांच की मांग

एक तरफ जहां गुजरात के शिक्षामंत्री घूसखोर इंजीनियर की किताब विमोचन को लेकर चर्चाओं में आ गए हैं तो वहीं दूसरी तरफ राजस्थान के शिक्षा मंत्री के चार रिश्तेदारों के आरएसएस इंटरव्यू में 80-80 अंक पाने का विवाद गरमा गया है। 

भूपेंद्र सिंह चूडास्मा (बाएं), गोविंद सिंह डोटासरा (दाएं)। Photo Source- Indian Express

दो राज्यों के शिक्षा मंत्री अलग-अलग कारणों से विवादों के कटघरे में खड़े दिखाई दे रहे हैं। एक तरफ जहां गुजरात के शिक्षामंत्री घूसखोर इंजीनियर की किताब विमोचन को लेकर चर्चाओं में आ गए हैं तो वहीं दूसरी तरफ राजस्थान के शिक्षा मंत्री के चार रिश्तेदारों के आरएसएस इंटरव्यू में 80-80 अंक पाने का विवाद गरमा गया है।

गुजरात के शिक्षा मंत्री ने किया घूसखोर इंजीनियर कि किताब का विमोचन: गुजरात के अहमदाबाद में उस अधिकारी को रिश्वतखोरी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है, जिसकी किताब का विमोचन कुछ दिनों पहले खुद गुजरात के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा ने किया था। गुजरात के एंटी करप्शन ब्यूरो ने घूसखोरी के आरोप में इंजीनियर निपुण चौकसी को गिरफ्तार किया है। आरोपी के दो लॉकरों से लाखों रुपये नकद बरामद मिलने से पूरे महकमे में हड़कंप मच गया है। गुजरात एसीबी की टीम ने अब तक इतनी बड़ी मात्रा में नकदी बरामद नहीं थी। हैरान करने वाली बात ये है कि लॉकर से जो नोट बरामद हुए हैं, उनमें 500 और 1000 के वह नोट भी शामिल हैं जो 2016 से ही बंद हैं।

इंजीनियर निपुण, साहित्य के क्षेत्र में भी खासी रुचि रखता है। वह ‘स्मित और स्पंदन’ व ‘परेशान कैसे करें’ किताब का लेखक भी हैं। अप्रैल में उसकी किताब का विमोचन राज्य के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा के द्वारा कराया गया था। इंजीनियर निपुण को एसीबी ने ठेकेदार से रिश्वत लेते हुए पकड़ा था। जब उसके दो लॉकरों की जांच की गई तो उसमें से 74.50 लाख और 1.52 करोड़ रुपये और सोने के जेवर भी बरामद हुए हैं।

RAS टॉप लिस्ट में शिक्षा मंत्री के रिश्तेदार: राजस्थान के शिक्षामंत्री गोविंद सिंह डोटासरा इन दिनों आरएएस भर्ती-18 को लेकर विवादों के साए में नजर आ रहे हैं। दरअसल शिक्षामंत्री की पुत्रवधू के भाई और बहन को आरएएस इंटरव्यू में 80-80 नंबर मिले हैं। जबकि टॉप 16 रैकिंग तक में केवल 6 लोग ही ऐसे हैं जिन्हें 80 या उससे ज्यादा नंबर मिले हों। साल 2016 में हुई आरएएस परीक्षा में भी ऐसा ही कुछ नजारा देखने को मिला था जब एक मंत्री डोटासरा के बेटे और बहू को 80 या उससे ज्यादा नंबर मिले थे।

दरअसल RPSC की इंटरव्यू प्रक्रिया इसलिए सवालों के घेरे में है क्योंकि इंटरव्यू के दौरान घूस लेकर अच्छे नंबर दिलाने के मामले में जूनियर अकाउंटेंट को गिरफ्तार किया गया है। जब मंत्री जी से रिश्तेदारों के टॉपर्स लिस्ट में आने को लेकर सवाल पूछा गया था तो उन्होंने कहा कि 300 से ज्यादा बच्चों को इंटरव्यू में 75 से 80 अंक मिले हैं, अगर बच्चे प्रतिभावान हैं तो इसमें मेरा क्या दोष है।

Next Stories
1 ऑक्सीजन की कमी से मौत नहीं, सरकार के बयान पर बोले कुमार विश्वास- यह लोकतंत्र का शोकपर्व
2 टीकाकरण को लेकर विपक्ष ना करे राजनीति- लोकसभा में बोले स्वास्थ्य मंत्री
3 ‘प्रवासियों के औपचारिक समावेशन के लिए समाज, सरकार तथा बाजार को एक साथ होना होगा’
यह पढ़ा क्या?
X