ताज़ा खबर
 

यूपी में CAA विरोधी हिंसा के लिए PFI ने दिया धन, प्रवर्तन निदेशालय की जांच में खुलासा; गृह मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अगर कोई खास दिन इस तरह का वित्तीय लेनदेन हुआ है तो इसकी जांच-पड़ताल कराई जानी चाहिए।

नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन, प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने एक महत्वपूर्ण खुलासा करते हुए कहा है कि यूपी में हाल ही में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर हुई हिंसा में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के हाथ होने का लिंक मिला है। गृह मंत्रालय को भेजी रिपोर्ट में ईडी ने बताया कि पीएफआई से जुड़े 73 बैंक खातों से 120 करोड़ से ज्यादा की राशि कई लोगों और संस्थाओं के खाते में भेजी गई।

73 बैंक खातों में करीब 120.5 करोड़ जमा किए गए : ईडी की रिपोर्ट के मुताबिक 73 बैंक खातों में करीब 120.5 करोड़ जमा किए गए हैं। इन्हें प्रदर्शन वाले या उससे दो से तीन दिनों के भीतर इन बैंक खातों में बहुत मामूली राशि छोड़कर निकाल लिए गए थे। खातों में इनको कैश, आरटीजीएस/एनएफटी और आईएमपीएस क माध्यम से जमा किया गया था।

Hindi News Live Hindi Samachar 27 January 2020: देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

दिल्ली के बैंक में जमा पैसे की जांच से हुआ खुलासा: ईडी के अनुसार 73 खातों  में से पीएफआई के 27 और इससे संबंधित इकाई रिहैब इंडिया फाउंडेशन (आरआईएफ) के 9 और 17 अलग-अलग बैंकों में संबंधित व्यक्तियों, इकाइयों के 37 एकाउंट में पैसे जमा कराए गए हैं। पीएफआई के दिल्ली के नेहरू प्लेस स्थित सिंडिकेट बैंक के खातों में जमा हुए पैसों की जांच के दौरान पश्चिमी यूपी के बहराइच, बिजनौर, हापुड़, शामली, डासना आदि जिलों में कई बार कैश पकड़े जाने पर इस पूरे षडयंत्र का खुलासा हुआ।

बीजेपी ने उठाई गहराई से जांच की मांग: इन बैंक खातों में कैश 41 करोड़ 50 लाख जमा किए गए थे। पीएफआई के 27 बैंक खातों में ज्यादातर कैश ही जमा किया गया जो कुल जमा राशि का लगभग पचास प्रतिशत है। इन खातों 59 करोड़ में से 27 करोड़ रुपये कैश में जमा किए गए थे। मामले को लेकर एजेंसी अभी और जांच कर रही है। इस रिपोर्ट के खुलासे के बाद बीजेपी ने कहा है कि इस मामले की जांच होनी चाहिए। बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अगर कोई खास दिन इस तरह का वित्तीय लेनदेन हुआ है तो इसकी जांच होनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 CAA के खिलाफ अब पश्चिम बंगाल में प्रस्ताव पास, केरल, पंजाब और राजस्थान के बाद बना ऐसा चौथा राज्य
2 BJP प्रवक्ता संबित पात्रा का तंज- कांग्रेस की सोच थोड़ी सी लिफ्ट करा दे,सद्बुद्धि उनको जरा गिफ्ट करा दे
3 कोलकाता नगर निगम की साइट पर भारत के नक्शे में PoK नहीं है भारत का हिस्सा, मेयर बोले- हैक हो गई वेबसाइट
ये पढ़ा क्या?
X