ताज़ा खबर
 

ताज महल का दीदार कर अपना भारत दौरा शुरू करेंगे बेल्जियम के सम्राट और महारानी

बेल्जियम के सम्राट फिलिप और महारानी माथिल्डे की यह भारत यात्रा दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों के 70 साल पूरे होने के मौके पर भी हो रही है।

योगी सरकार ताजमहल के सहारे निवेशकों को लुभाने की तैयारी में है। (फाइल फोटो)

भारत आ रहे बेल्जियम के सम्राट फिलिप और महारानी माथिल्डे ताज महल की यात्रा के साथ रविवार को देश के सात दिवसीय दौरे की शुरूआत करेंगे। बेल्जियम के दूत ने यह जानकारी दी। भारत में बेल्जियम के राजदूत जान लुएक्स ने शनिवार को बताया कि 2013 में गद्दी संभालने के बाद फिलिप का भारत का यह पहला आधिकारिक दौरा होगा। वर्ष 2010 में फिलिप ने युवराज के तौर पर बेल्जियम के ट्रेड मिशन का नेतृत्व किया था। दौरे का मकसद व्यापार सहित अन्य क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देना है।

यह यात्रा दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों के 70 साल होने के मौके पर भी हो रही है। दौरे की थीम 21 वीं सदी के लिए अनूठी भागीदारी है। बेल्जियम के यहां स्थित मिशन के आधिकारिक ट्विटर हैंडल के मुताबिक, 1970 में महाराजा बौदोयून और महारानी फेबिओला ने भारत का पहला आधिकारिक दौरा किया था। लुएक्स ने शुक्रवार शाम एक कार्यक्रम के इतर पीटीआई को बताया, ‘‘शाही दम्पति पांच नवंबर की शाम भारत आ रहे हैं। इसके बाद वह ताजमहल देखने जाएंगे।”

उन्होंने कहा कि दौरे का अगला चरण दिल्ली से शुरू होगा जहां वह दो दिन रहेंगे और अंत में मुंबई में दो दिन रहेंगे। वे 11 नवंबर की सुबह विदा होंगे। फिलिप यहां राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भी मिलेंगे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ वार्ता करेंगे। फिलिप के साथ एक शिष्टमंडल भी भारत आएगा जिसमें बेल्जियम की कंपनियों के 90 सीईओ होंगे। विभिन्न अकादमिक संस्थानों और मीडिया के सदस्य भी दौरे के दौरान उनके साथ रहेंगे।

उल्लेखनीय है कि ताज महल पिछले कुछ दिनों में भारत में चर्चा का विषय बना हुआ है। ताज महल को लेकर विवादित पोस्ट करने के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स यानी एसटीएफ ने लखनऊ और आगरा पुलिस की मदद से राजधानी के माल एवेन्यू इलाके से उत्तर प्रदेश नव निर्माण सेना के अध्यक्ष अमित जानी और उसके सहयोगी उपदेश राणा को कुछ दिनों पहले गिरफ्तार किया हैं। आपको बता दें कि अमित जानी के अपने फेसबुक अकाउंट पर ताज महल की तस्वीर पर भगवा झंडा लगाकर पोस्ट की थी। इसके अलावा उसने ताज महल को ‘मंदिर’ बताते हुए तीन नवंबर को बड़ी संख्या में लोगों से आगरा चलने की अपील की थी। इसके अलावा अन्य कई नेताओं ने भी ताज महल को लेकर पिछले कुछ दिनों में विवादित टिप्पणियां की हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App